Saturday , August 19 2017
Home / Khaas Khabar / जल्लीकट्टू विरोध हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक है: ओवैसी

जल्लीकट्टू विरोध हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक है: ओवैसी

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने आज कहा कि जल्लीकट्टू पर विरोध हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए एक ‘सबक’ था।

तमिलनाडु में चल रहे जल्लीकट्टू खेल पर प्रतिबंध के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भारत जैसे विविधतापूर्ण देश में समान नागरिक संहिता को भी नहीं लगाया जा सकता है।

“हिंदुत्व बलों के लिए जल्लीकट्टू विरोध प्रदर्शन एक सबक है, हमारे देश में समान नागरिक संहिता नहीं लागू हो सकती क्योंकि हम एक राष्ट्र एक संस्कृति का नहीं बल्कि सभी संस्कृतियों का जश्न मनाते हैं,” ओवैसी ने ट्वीट किया।

हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी समान नागरिक संहिता का विरोध करते है और उन्होंने अतीत में भी कहा है कि यह भारत जैसे विविधतापूर्ण संस्कृति वाले देश की मदद नहीं करेगा।

“मैं लगातार कहता आ रहा हूँ कि हमारे विविधता और बहुलवाद वाले देश में समान नागरिक संहिता ठीक नहीं है। समान नागरिक संहिता हमारे देश की मदद नहीं कर पायेगी, ” उन्होंने पिछले साल कहा था।

“उदाहरण के लिए, क्या मिताक्षरा और दायभाग स्कूलों के अनुसार एक विरासत नीति अलग-अलग नीतियों को एक किया जा सकता है क्या? नागालैंड और मिजोरम को संविधान द्वारा दिए गए सांस्कृतिक अधिकारों को लिया जा सकता है क्या?,” उन्होंने पूछा था।
ट्विटर पर, ओवैसी ने लिखा है, “जल्लीकट्टू विद्रोह तमिल भावना को समझने में राजनीतिक वर्ग की विफलता को दर्शाता है।”

“तमिलनाडु के लोगों की एकजुटता ने मोदी सरकार और अन्नाद्रमुक सरकार को सुप्रीम कोर्ट के फैसले से बचने के लिए कानून बदलने पर मजबूर कर दिया है,” उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा।

तमिलनाडु छात्रों, युवाओं और समाज के अन्य वर्गों का पांचवे दिन भी लगातार प्रदर्शन जारी है, उनकी मांग है कि उन्हें तुरंत अलंगनल्लूर में जल्लीकट्टू का मंचन करने दिया जाए। अलंगनल्लूर को जल्लीकट्टू खेल के केंद्र के रूप में जाना जाता है।

TOPPOPULARRECENT