Monday , October 23 2017
Home / Delhi / Mumbai / जवाहरलाल नेहरू यूनीवर्सिटी छात्र की सजा के लिए कानूनी सलाह

जवाहरलाल नेहरू यूनीवर्सिटी छात्र की सजा के लिए कानूनी सलाह

नई दिल्ली: माना जाता है कि जवाहरलाल नेहरू यूनीवर्सिटी संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु की मौत की सजा पर उनकी बरसी जवाहरलाल नेहरू यूनीवर्सिटी  के परिसर में आयोजित करने वाले छात्रों और इस समारोह में कथित तौर पर राष्ट्र दुश्मन नारे बाज़ी में शामिल छात्रों को सजा के बारे में कानूनी सलाह प्राप्त कर रही है। सूत्रों के मुताबिक चीफ प्रॉक्टर कार्यालय ने सजा की गंभीरता के बारे में कानूनी सलाह हसिल‌ किया है ‘अगर अधिकारी तय है कि सजा की कार्य‌वाई छात्रों के खिलाफ करने के लिए दबाव डाला जाए तो संभावना है कि विरोध प्रदर्शन का एक नया दौर शुरू हो जाए।

यूनीवर्सिटी  की समिति ने जो इस घटना की जांच कर रही है 11 मार्च को अपनी रिपोर्ट पेश कर दी है। यूनीवर्सिटी  ने अब तक इस मसले पर कोई अंतिम फैसला नहीं किया है। सूत्रों ने कहा कि यह एक संवेदनशील मुद्दा है और यूनीवर्सिटी  नहीं चाहती कि किसी के साथ भी अन्याय हो। डिसिप्लिन को  ध्यान में रखते हुए सज़ा का फैसला किया जाएगा लेकिन पहले यह सुनिश्चित करना है कि जुर्माना कानूनी रूप से जायज रखता हो। उच्च स्तरीय समिति ने अपनी रिपोर्ट में कुछ छात्रों को दोषी करार दिया है और कहा है कि उन्होंने यूनीवर्सिटी  के मानकों और अनुशासन के नियमों का उल्लंघन किया है।

14 मार्च 21 छात्रों को नोटिस जारी किया था और उनसे पूछा गया था कि उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्य‌वाई शुरू क्यों न किया जाए। छात्रों ने शुरुआत में जांच समिति की बैठक में बयान देने से इनकार किया था और फिर से जांच करवाने की जरूरत पर जोर दिया था। प्रशासन ने विद्यार्थियों को इसकी सूचना दी थी कि अगर वह कारण बताओ नोटिस का जवाब न दें तो यह समझ लिया जाएगा कि उन्हें इस मामले में कुछ भी नहीं कहना है और कार्यालय प्रगति शुरू कर देगा।

पांच सदस्यीय समिति ने छात्रों और प्रशासन की कमियों की पहचान की थी हालांकि प्रशासनिक अधिकारियों में से किसी से भी स्पष्टीकरण मांग नहीं की गई .बाहरी लोगों के इस विवादास्पद घटना में भूमिका के मद्देनजर यूनीवर्सिटी  की समिति ने खालिद और अनीर्बन भट्टाचार्य को सांप्रदायिक सांप्रदायिक भावनाओं ‘जाति या क्षेत्र वारी भावनाओं भड़काने या छात्रों में गैर समन्वय के कुछ छात्रों को दोषी करार दिया था।

हालांकि छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार के खिलाफ कोई स्पष्ट आरोप लगाया नहीं किया गया। हालांकि एबीवीपी के सदस्य सौरभ शर्मा को 9 फरवरी को यातायात रोक देने का दोषी करार दिया गया था। इसी तारीख को विवादास्पद कार्यक्रम आयोजित किया गया था .11 मार्च को यूनीवर्सिटी  ने 8 छात्रों सहित कन्हैया की शैक्षिक रद्द बरख़ास्त कर दी थी जब कि जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट पेश की थी।

TOPPOPULARRECENT