Thursday , July 27 2017
Home / Khaas Khabar / जस्टिस कर्णन ने सुप्रीम कोर्ट पर ठोका मानहानि का दावा, मांगा 14 करोड़ का हर्जाना

जस्टिस कर्णन ने सुप्रीम कोर्ट पर ठोका मानहानि का दावा, मांगा 14 करोड़ का हर्जाना

कलकत्ता हाईकोर्ट के जस्टिस सी. एस. कर्णन ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश और संवैधानिक पीठ को चिट्ठी लिखकर 14 करोड़ का हर्जाना मांगा है। उन्होंने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट की तरफ से उन पर जो आरोप लगाए गए हैं, उससे उनके प्रतिष्ठा को चोट पहुंची है।

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को जस्टिस कर्णन के खिलाफ अवमानना से जुड़े एक मामले में अदालत के सामने पेश न होने के चलते वारंट जारी किया है। उच्चतम न्यायालय ने सख्ती दिखाते हुए जस्टिस कर्णन को 10,000  रुपये का निजी बॉन्ड भरने का भी आदेश दिया है।

हालांकि जस्टिस कर्णन ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद शुक्रवार को कहा कि उनके खिलाफ अवमानना मामले में जमानती वारंट जारी करना असंवैधानिक है। उन्होंने कहा कि आज जमानती वारंट जारी किया गया। इस पर रोक लगाई जाएगी। इनके पास मेरे खिलाफ वारंट जारी करने का अधिकार नहीं है। यह असंवैधानिक है।

गौरतलब है कि न्यायपालिका के इतिहास में यह पहला मौका है जब हाईकोर्ट के कार्यरत जज पर सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना की कार्यवाही की है। इससे पूर्व सुप्रीम कोर्ट अपने ही पूर्व जज जस्टिस मार्कंडेय काटजू पर कोर्ट की अवमानना की कार्यवाही चला चुका है। मुख्य न्यायाधीश जस्टिस जे.एस. खेहर की अध्यक्षता में सात जजों की पीठ इस मुद्दे पर सुनवाई कर रही है।

TOPPOPULARRECENT