Saturday , August 19 2017
Home / India / जाकिर नाइक ने फिर रद्द किया प्रेस कोन्फ्रेंस, अफसरों के दबाव का दिया हवाला

जाकिर नाइक ने फिर रद्द किया प्रेस कोन्फ्रेंस, अफसरों के दबाव का दिया हवाला

मुंबई: ढाका के एक रेस्तरां में हमला करने वाले कुछ हमलावरों को अपने भाषणों के जरिए प्रेरित करने के आरोपों से घिरे विवादित इस्लामी उपदेशक जाकिर नाइक ने एक बार फिर अपना संवाददाता सम्मेलन रद्द कर दिया है। ऐसा करते हुए नाइक ने आयोजन स्थल के अधिकारियों की ओर से डाले जा रहे दबाव का हवाला दिया।

नाइक को स्काइप के जरिए मीडिया से बात करनी थी। इसके लिए दक्षिण मुंबई के एक छोटे से हॉल में इंतजाम किए गए थे। उनके एक सहयोगी ने यहां जारी बयान में कहा, ‘अग्रीपाडा स्थित महफिल हॉल के प्रबंधन ने कल रात को लगभग 11 बजे आयोजन स्थल पर मौजूद हमारी टीम को बताया कि वे हमें संवाददाता सम्मेलन आयोजित करने की अनुमति नहीं दे सकते और हमें आयोजन स्थल पर किए गए सारे इंतजाम हटा लेने चाहिए। कोई विकल्प न बचने पर हमारी टीमों ने सब कुछ हटा लिया और आधी रात के दौरान वहां से निकल आईं।’ इससे पहले नाइक का मीडिया से संवाद इस सप्ताह की शुरूआत में दक्षिण मुंबई के ट्राइडेंट होटल में होना था लेकिन फिर आयोजन स्थल को बदलकर विश्व व्यापार केंद्र कर दिया गया था। इसके बाद आयोजन स्थल दोबारा बदला गया और दक्षिण मुंबई स्थित अग्रीपाडा क्षेत्र के हॉल में आयोजन तय किया गया। इसे भी अब रद्द कर दिया गया है।

जाकिर नाइक के संवाददाता सम्मेलन के आयोजकों ने कल दावा किया कि मुंबई पुलिस ने शहर के बड़े होटलों को निर्देश दिया है कि वे संवाददाता सम्मेलन के लिए जगह न दें। हालांकि इस आरोप को बाद में उन्होंने वापस ले लिया। ढाका स्थित एक कैफे में आतंकी हमला करने वाले कुछ आतंकी हमलावरों को अपने भाषणों के जरिए प्रेरित करने के आरोपों से घिरे जाकिर नाइक राज्य और केंद्रीय एजेंसियों की नजरों में आ गए हैं। मीडिया संवाद के जरिए नाइक को अपनी स्थिति स्पष्ट करनी थी। मीडिया में ऐसी खबरें आई थीं कि नाइक के ‘भड़काउ’ भाषणों ने बांग्लादेश के इतिहास का सबसे भयावह आतंकी हमला बोलने वाले कुछ आतंकियों को प्रेरित किया थ। ढाका के कैफे पर किए गए इस हमले में 22 लोग मारे गए थे।

नाम उजागर न करने की शर्त पर एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया, ‘मीडिया रिपोर्टों से इतर, जाकिर नाइक को मुंबई पुलिस ने कोई क्लीन चिट नहीं दी है। हर कोण से जांच की जा रही है और विधानसभा के मानसून सत्र से पहले एक रिपोर्ट सरकार को सौंपी जाएगी।’

TOPPOPULARRECENT