Monday , October 23 2017
Home / Mazhabi News / जापानी पहलवान अनूकी, तब्लीग़ दीन में मसरूफ़

जापानी पहलवान अनूकी, तब्लीग़ दीन में मसरूफ़

जापान को रेसलिंग की दुनिया में अहम मुक़ाम-ओ- एज़ाज़ दिलाने वाले अफ़सानवी पहलवान अन्तोनियो अनूकी दामन इस्लाम में पनाह लेने के बाद से तब्लीग़ दीन में मसरूफ़ हो गए हैं। 1990 के दहिय में इस्लाम कुबूल करने वाले अन्तोनियो अनौकी ने अब बाज़ाबता

जापान को रेसलिंग की दुनिया में अहम मुक़ाम-ओ- एज़ाज़ दिलाने वाले अफ़सानवी पहलवान अन्तोनियो अनूकी दामन इस्लाम में पनाह लेने के बाद से तब्लीग़ दीन में मसरूफ़ हो गए हैं। 1990 के दहिय में इस्लाम कुबूल करने वाले अन्तोनियो अनौकी ने अब बाज़ाबता तौर पर नाम तबदील कर लिया है और उन्होंने मुहम्मद हुसैन अनौकी की हैसियत से दुनिया भर में इस्लाम का पयाम अमन फैलाने की कोशिशों को तेज़ कर दिया है।

वो चाहते हैं कि स्पोर्टस और नौजवानों की हौसलाअफ़्ज़ाई के ज़रीया दुनिया में इस्लाम का पयाम अमन फैलाएं। वाज़िह रहे कि 1976 में अन्तोनियो की और अफ़सानवी बॉक्सर मुहम्मद अली के दरमियान ख़ुसूसी मुक़ाबला हुआ और हुस्न ए इत्तिफ़ाक़ से इस मुक़ाबला में किसी को कामयाबी नहीं मिली।

इकोनेव को 1990 में उस वक़्त हुकूमत जापान ने अपना ख़ुसूसी क़ासिद बनाकर इराक़ भेजा जब वहां जापानी शहरीयों का अग़वा कर लिया गया था। उन्हों ने सद्दाम हुसैन से अपने जापानी हमवतनों को आज़ाद करवाने की नुमाइंदगी की थी।

और अब मुहम्मद हुसैन अनूकी अमन के सफ़ीर का किरदार निभा रहे हैं। गुज़श्ता साल मुहम्मद हुसैन अनौकी ने पाकिस्तान में मुनाक़िदा इंटरनैशनल पीस रेसलिंग कॉम्पिटीशन में शिरकत की। उन्होंने जापान और पाकिस्तान के दरमियान खेल कूद के शोबा में ताल्लुक़ात की 60 वीं सालगिरा तक़ारीब में भी हिस्सा लिया।

बताया जाता है कि इकोनेव ने 1976 में 50 हज़ार शायक़ीन के सामने पाकिस्तान के अफ़सानवी रेसलर अकरम पहलवान को शिकस्त से दो-चार कर दिया था। इस मुक़ाबले में अकरम पहलवान के हाथ की हड्डी अपने मुक़ाम से हट गई थी।

इकोनेव ने दौरा-ए-पाकिस्तान के मौक़ा पर अकरम पहलवान की क़ब्र पर हाज़िरी देते हुए गुलहाए अक़ीदत पेश किए।

TOPPOPULARRECENT