Sunday , August 20 2017
Home / Jharkhand News / जामताड़ा के सोखा ने गीता को बताया बेटी

जामताड़ा के सोखा ने गीता को बताया बेटी

नारायणपुर/ जैनामोड़ : पाकिस्तान से अपने वतन लौट चुकी मजूर गीता को लेकर जामताड़ा जिला के नारायणपुर के बड़ाबेवा गांव के एक आदिवासी अहले खाना ने दावा किया है। वालिद सोखा किस्कू ने मुल्क के पीएम व सूबे के सीएम से गीता को उनसे मिलाने व शिनाख्त करा कर सौंपने की गुहार की है। उसने बुध को नारायणपुर थाना में इस सिलसिले में एक दरख्वास्त देते हुए जरूरी छानबीन और तहक़ीक़ात करके बेटी को सौंपने की गुहार की है।

आदिवासी (संथाल) अकसरियत बड़ाबेवा गांव के रहने वाले सोखा किस्कू व लोबनी सोरेन ने गीता को अपनी दूसरे नंबर की बेटी मिलोनी किस्कू बताया है। गीता को अपनी दूसरे नंबर की बहन बताते हुए चांदमुनी किस्कू कहती है कि हम लोग छह बहन व एक भाई हैं।

गीता के भी सात भाई-बहन होने की बात सामने आयी है। जिस गीता को हम देख रहे हैं उससे वालिदा और हमारी बहनों संगीता, मंगीता, ललिता का चेहरा मिलता है। साथ ही उसकी बहन भी 14 साल पहले बरसात के दिनों में ही गायब हुई। वह भी गुंगी व बहरी है। गांव से खेत तक का फेरा लगानेवाली निलोनी जब दो दिनों तक घर नहीं लौटी तो आगे खोजबीन शुरू की। दो सालों तक निलोनी की खोजबीन जारी रही। कोई सुराग नहीं मिलने पर उसके लौटने की आस छोड़ दी।

थाना में दरख्वास्त देने पर मुनासिब कानूनी कार्रवाई शुरू होगी। अहले खाना के दावे को तहक़ीक़ात कर हुकूमत के जेहन में दिया जायेगा। दावा सही होने पर इंतेजामिया सतह से अहले खाना की हर मुमकिन मदद की जायगी।
मनोज कुमार सिंह, एसपी, जामताड़ा

 

TOPPOPULARRECENT