Monday , August 21 2017
Home / India / जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी पर क्या बोले थे पीएम मोदी

जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी पर क्या बोले थे पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी के 2008 की एक तकरीर को लेकर जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के साबिक तालिबा उनका यूनिवर्सिटी में आने का एहतिजाज कर रहे हैं। गुजरात में 2008 में एक तकरीर में मोदी ने जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी से जुड़े एक वाकिया का जिक्र किया था। मोदी को जामिया के दीक्षांत तकरीब में चीफ गेस्ट के तौर पर मदऊ किया गया है। हालांकि, अभी यह खबर नहीं आई है कि मोदी ने दावत को कुबूल किया है या नहीं।

मोदी ने इस तकरीर में क्या कहा था –

‘एक अफसोसनाक वाकिया इस मुल्क में रूनुमा हुई है, ये मुल्क कभी माफ नहीं करेगा। आपको भी इत्तेला नहीं होगी दोस्तो। आप जब जानोगे तो आपको भी दर्द होगी। ये जो दझशतगर्द पकड़े गए हैं, दिल्ली में जो दहशतगर्द पकड़े गए हैं। कल दिल्ली की एक यूनिवर्सिटी- जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी, इस यूनिवर्सिटी ने आवामी तौर पर से ऐलान किया है।

इस दहशतगर्दों की हिफाज़त करने के लिए, अदालत का मुकदमा जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी लड़ेगी। अरे डूब मरो-डूब मरो। हिंदुस्तान की जनता के पैसों से जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी चल रही है। और यूनिवर्सिटी ये हिम्मत दिखाए कि वे वकील करेंगे, ऐडवोकेट हायर करेंगे।

मुल्क के टॉप मोस्ट वकीलों को रुपए दिए जाएंगे। और इन दहशतगर्दों को छुड़वाने के लिए आफीशियली तौर पर कह रहे हैं।’

मोदी आगे कहते हैं कि, ‘वोट बैंक की सियासत कहां तक पहुंच गई है। अगर दिल्ली में दम वाली हुकूमत होती तो ऐसा बयान देने वाले उस वाइस चांसलर को एक मिनट में निकाल देती।

जो गोधरा के नाम पर चिल्ला रहे थे, जरा ये जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी ने जो बयान दिया है, उस पर खामोश हैं मित्रो। कल का वाकिया है। ये अपने आपको सेक्युलर कहने वाले लोगों के मुंह पर ताले लग गए हैं। यह वोट बैंक की सियासत है। और इसलिए भाइयो-बहनो, मुल्क को तबाह करने का जो साजिश चल रही है और मुझ पर पता नहीं क्या-क्या इल्ज़ाम लगाए जा रहे हैं।

मित्रो/ दोस्तों , इस मुल्क का कोई शहरी नहीं चाहता है कि दहशतगर्दों की चंपक-चमकी हो। क्या कोई चाहता है क्या? सारा मुल्क चाहता है कि दहतशगर्दों को उन्हीं की ज़ुबान में जवाब दिया जाए। (हुजूम ताली बजाती है।)’

मोदी बोलते हैं, ‘मित्रो/दोस्तों ये वो लोग हैं, जो अपनी चमड़ी बचाने के लिए बेगुनाहों को मरवा रहे हैं। मित्रो, गुजरात को यह रास्ता मंजूर नहीं है। हम मौत के सौदागरों के खिलाफ वही सुलूक करेंगे।’

TOPPOPULARRECENT