Wednesday , October 18 2017
Home / Sports / जिंदगी और मौत से जूझ रही मनीषा चौहान

जिंदगी और मौत से जूझ रही मनीषा चौहान

20 साला खातून बाक्सर मनीषा चौहान पिछले दस दिन से जिंदगी और मौत से जूझ रही है। समता नगर में मौजूद साई इंटरनेशनल स्पोर्ट्स क्लब में प्रैक्टिस के दौरान रिंग में मर्द बॉक्सर से मिले पंच के बाद से वह कॉमा (Coma) में हैं। पंच सिर में लगी थी, जि

20 साला खातून बाक्सर मनीषा चौहान पिछले दस दिन से जिंदगी और मौत से जूझ रही है। समता नगर में मौजूद साई इंटरनेशनल स्पोर्ट्स क्लब में प्रैक्टिस के दौरान रिंग में मर्द बॉक्सर से मिले पंच के बाद से वह कॉमा (Coma) में हैं। पंच सिर में लगी थी, जिसके बाद उसका ब्रेन हैंमरेज हो गया।

दिमाग में ब्लीडिंग के वजह से बेहोश होकर रिंग में गिर पड़ी, जिसके बाद उसे अस्पताल पहुंचा गया। पुलिस ने स्पोर्टस अथारिटी के खिलाफ लापरवाही का मामला दर्ज कर लिया है। साई ने जूनियर सतह के कोच और एक सीनियर मुक्केबाज को यहां ट्रेनिंग के लिए रखा था।

मनीषा कांदिवली में ठाकुर कॉलेज में बीकॉम II साल की तालिबा ( छात्रा) है। वह 2 अक्तूबर को अपने मेल पार्टनर ( Male Partner) के साथ रिंग में प्रैक्टिस कर रही थीं, जिस दौरान उसके सिर में जोरदार पंच लगी थी। पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक उसके कोच जसवंत सिंह मौजूद नहीं थे और बॉक्सर उनकी बीवी की मौजूदगी में प्रैक्टिस कर रहे थे। यह भी कहा गया है कि कौमी सतह के बॉक्सरों ने कोई हेडगेयर नहीं लगा रखा था।

फिलहाल नायर अस्पताल में ज़ेर ए इलाज है। सीनियर इंस्पेक्टर एन कांबले ने कहा कि आईपीसी सेक्सन 338 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। हालांकि कोच जसवंत ने उसकी ओर से किसी लापरवाही से इनकार किया है।

कालेज के तलबा ( छात्रों) ने 93000 हजार रुपये चंदा के जरिए जमा करके इलाज के लिए अस्पताल को दिया।

TOPPOPULARRECENT