Tuesday , August 22 2017
Home / Crime / जिगिशा मर्डर : दो आरोपियों को मौत, तीसरे को उम्र क़ैद की सज़ा

जिगिशा मर्डर : दो आरोपियों को मौत, तीसरे को उम्र क़ैद की सज़ा

नई दिल्ली: सोमवार को दिल्ली की एक अदालत ने जिगिशा घोष की हत्या के 3 आरोपियों में से 2 रवि कपूर और अमित शुक्ला को मौत की सज़ा जबकि 3 आरोपी बलजीत सिंह मलिक को आजीवन कारावास सज़ा के साथ रवि कपूर को 20,000 रुपये और अमित शुक्ला और बलजीत सिंह मलिक को एक-एक लाख रुपये का जुरमाना भी अदा करने के लिए कहा है |

तीनों आरोपियों पर 30 सितंबर, 2008 को टेलीविजन पत्रकार सौम्या विश्वनाथन की हत्या का आरोप है

दिल्ली पुलिस ने शनिवार को हत्या के मामले में सभी तीन दोषियों के लिए अधिकतम सजा की मांग की थी जबकि बचाव पक्ष के वकील, ने दोषियों को उनके परिवार की स्थिति का हवाला देते हुए के लिए उदार सजा की मांग की थी।बहस के दौरान बचाव पक्ष के एक रवि कपूर के वकील ने कहा है कि वह केवल 27 वर्ष का है और  और एक जानलेवा बीमारी से पीड़ित होने के साथ उसके दो छोटे बच्चे भी हैं | अमित कुमार, बलजीत सिंह मलिक के वकील कुमार ने आईएएनएस को बताया कि हमने अदालत से अनुरोध किया है कि अदालत को आरोपियों की उम्र और पिछले आचरण पर गौर करते भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत निर्धारित न्यूनतम सजा के लिए अनुरोध किया है

दूसरी और जिगिशा की माँ सविता घोष ने कहा कि आरोपियों ने हत्या की है इसलिए इन्हें मौत की सज़ा दी जानी चाहिए |

28 वर्षीय जिगिशा हेविट एसोसिएट प्राइवेट लिमिटेड में ऑपरेशन मैनेजर के तौर पर काम करती थी 18 मार्च, 2009 को उसका अपहरण करने के बाद उसकी हत्या कर लाश को आफिशियल कैब से ही 4 a.m. के लगभग दक्षिण दिल्ली के वसंत विहार इलाके में उसके घर के पास फैंक गये थे | पीड़िता की पिता के अभियोजन पक्ष के गवाह के रूप में पेश होने के बाद इस केस की सुनवाई 15 अप्रैल, 2010 को शुरू की गयी थी |अदालत ने आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी)  के तहत हत्या, आपराधिक साजिश, अपहरण, डकैती, जालसाजी और हथियार के इस्तेमाल करने के लिए आरोप तय किये थे |

 

TOPPOPULARRECENT