Saturday , October 21 2017
Home / World / जुनूबी सूडान के सदर का दौरा-ए-चीन

जुनूबी सूडान के सदर का दौरा-ए-चीन

अवामी जम्हूरीया चीन ने कहा कि जुनूबी सूडान के सदर जिन का मुल्क सूडान के साथ खूँरेज़ सरहदी झड़पों में जकड़ा हुआ है , रवां माह के अवाख़िर में इस एशियाई मुल्क का दौरा करेंगे । वो ये दौरा ऐसे मौक़ा पर कर रहे हैं जबकि ये नौज़ाईदा अफ़्रीक़ी मुल्

अवामी जम्हूरीया चीन ने कहा कि जुनूबी सूडान के सदर जिन का मुल्क सूडान के साथ खूँरेज़ सरहदी झड़पों में जकड़ा हुआ है , रवां माह के अवाख़िर में इस एशियाई मुल्क का दौरा करेंगे । वो ये दौरा ऐसे मौक़ा पर कर रहे हैं जबकि ये नौज़ाईदा अफ़्रीक़ी मुल्क जिस की फ़ौज ने गुज़शता हफ़्ते मताज़ा तेल के कुवें पर क़ब्ज़ा कर लिया , सूडान को सरहद पार फ़िज़ाई हमलों में उक़्सा रहा है जिससे भरपूर जंग दुबारा छिड़ने का ख़दशा पैदा हो गया है।चीन की वज़ारत-ए-ख़ारजा के तर्जुमान लीबीयाई सन ने अख़बार नवीसों को बताया कि सिल्वा कॉइर 3 से 8अप्रैल तक चीन का दौरा करेंगे वो चीन के सदर होजिंताओ के साथ मुज़ाकरात करेंगे ।

सदर कॉइर के दौरा के दौरान दो तरफ़ा सयासी बाहमी एतेमाद को वसीअ करने और अमली तआवुन को फ़रोग़ देने के तरीक़ों पर भी ग़ौर किया जाएगा , वो बैन-उल-अक़वामी और इलाक़ाई उमूर पर भी तबादला ख़्यालात करेंगे। बीजिंग जो सूडान की हुकूमत का हलीफ़ है लेकिन अपने तेल की पाँच फ़ीसद ज़रूरयात जुनूबी सूडान से हासिल करता है , चीन ने गुज़शता हफ़्ते फ़रीक़ैन पर ज़ोर दिया कि वो फ़ायर बंदी कर दें और सिफ़ारती मेज़ पर वापस आ जाएं।साबिक़ ख़ानाजंगी के फ़रीक़ैन के दरमयान लड़ाई मार्च में शुरू हुई लेकिन इस ने गुज़शता हफ़्ते शिद्दत इख्तेयार कर ली है जो कि गुज़श्ता साल जुलाई में जुनूबी सूडान के सूडान से हुसूल आज़ादी के बाद से बदतरीन झड़पें ख़्याल की जाती हैं ।

TOPPOPULARRECENT