Thursday , August 24 2017
Home / Bihar/Jharkhand / जुलाई से राज्य के सभी विवि व कॉलेजों में मुफ्त वाइ-फाइ

जुलाई से राज्य के सभी विवि व कॉलेजों में मुफ्त वाइ-फाइ

पटना : राज्य के युवाओं के लिए खुशखबरी है. पटना से लेकर दूरदराज तक के सभी काॅलेजों और विश्वविद्यालयों में मुफ्त वाइ-फाइ की सुविधा उपलब्ध होगी. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सात निश्चयों में से एक इस योजना को राज्य कैबिनेट की गुरुवार को हुई बैठक में मंजूरी दी गयी. सरकार सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में वाइ-फाइ की सुविधा के लिए 220.50 करोड़ रुपये खर्च करेगी. 
 
पूर्व में इस मद में 185 करोड़ रुपये खर्च करने का निर्णय लिया गया था, लेकिन इसमें बड़ी संख्या में कॉलेज छूट गये थे, जहां वाइ-फाइ की सुविधा देना था. सरकार के इस निर्णय से राज्य सरकार को 35.50 करोड़ रुपये अधिक खर्च करने होंगे. जुलाई से शुरू होनेवाले नये सत्र से यह सुविधा बहाल होगी. 
 
कैबिनेट सचिव ब्रजेश मेहरोत्रा ने बताया कि कुल 11 एजेंडों को कैबिनेट ने मंजूरी दी है. उन्होंने बताया कि वाइ-फाइ की मदद से राज्य के युवा इंटरनेट का उपयोग करेंगे. इससे वे टेक्नोफ्रेंडली होंगे. इससे राज्य के विकास में वे बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेंगे. 

जल संसाधन विभाग में संविदा पर नियोजित और नगर विकास एवं आवास विभाग में कार्यरत जूनियर इंजीनियरों की सेवा एक साल के लिए अवधि विस्तार दिया गया है. उन्हें 27 हजार रुपये मासिक मानदेय मिलेगा. 
 
बिहार पुलिस सेवा के पदाधिकारी राजेंद्र  प्रसाद और अपर पुलिस अधीक्षक प्राणतोश कुमार दास को हाइकोर्ट के निर्देश पर स्टाफ ऑफिसर में प्रोन्नति दी गयी है.
 
बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी के नॉर्थ और साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड को बिजली खरीद मद में एनटीपीसी को  भुगतान के लिए सब्सिडी मद में 2016-17 के लिए 1500 करोड़ रुपये स्वीकृत.
 

बैठक में राज्य के छह नये इंजीनियरिंग कॉलजों में प्राचार्य के पद पर नियुक्ति की स्वीकृति दी गयी. कैबिनेट सचिव ने बताया कि बीपीएससी द्वारा अनुशंसित निर्मल कुमार, जगदानंद झा, मणिकांत पासवान, कुमार सुरेंद्र, फखरुद्दीन अंसारी और रामचंद्र प्रसाद को इन इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्राचार्य के पद पर तैनात किया जायेगा. 
 
कैबिनेट की बैठक में पीडब्ल्यूडी के निविदा एक्ट में संशोधन को स्वीकृत किया गया. अब एकल निविदा की स्थिति में दूसरी बार निविदा करने का प्रावधान किया गया है. यदि दूसरी बार भी एक ही निविदा भरा गया, तो उसे स्वीकृत किया जायेगा. नये प्रावधान के अनुसार यदि दूसरी दो निविदाएं एक समान हो, तो उसमें लॉटरी से तय किया जायेगा. 

TOPPOPULARRECENT