Friday , September 22 2017
Home / Delhi / Mumbai / जेएनयू छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी को शर्मनाक हार

जेएनयू छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी को शर्मनाक हार

नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में आरएसएस के छात्रों विभाग एबीवीपी को जबरदस्त शिकस्त दी। वामपंथी सहबद्ध रखने वाले समूहों की एबीवीपी से कड़ी प्रतिस्पर्धा थी। दोनों के विचारों विरोधाभासी हैं। विश्वविद्यालय परिसर में 9 फरवरी के जनसभा में देशद्रोही नारे बाजी करने का एबीवीपी ने आरोप लगाया था जिसके नतीजे में तीन छात्रों सहित संघ से निवर्तमान अध्यक्ष कन्हैया कुमार को देशद्रोह के आरोप मेगरफतारकरलैां गिरफतार कर लिया गया था।

पहली बार सीपीआई (एमएल) के छात्रों विभाग अखिल भारतीय विद्यार्थी एसोसिएशन (ए आई एस ए) के सदस्य छात्र ने साबित कर दिया कि उसे वर्षों से विश्वविद्यालय परिसर में जबरदस्त प्रभाव प्राप्त है। उसने माकपा के छात्रों विभाग एसर्ऐंआई से गठबंधन किया था। इस गठबंधन ने 31 सीटों में से 30 सीटों पर जीत हासिल की।

एबीवीपी सिर्फ विभाग संस्कृत की एक सीट हासिल हुई। वाम गठबंधन ने बरसा अंबेडकर फूले स्टूडेंट एसोसिएशन से कड़ी प्रतिस्पर्धा ‘जो राष्ट्रपति पद के चुनाव में दूसरे स्थान पररही’ जबकि एबीवीपी उपाध्यक्ष और महासचिव पद की प्रतियोगिता में दूसरा धावक साबित हुई। वाम गठबंधन के मोहित पांडे को छात्रसंघ के अध्यक्ष निर्वाचित किया गया। बरसा अंबेडकर समूह को 409 मतों के बहुमत से विफलता हुई।

अन्य संगठनों ने चुनाव के लिए अपने उम्मीदवार खड़े किए थे लेकिन उन सभी को सक्षम उपेक्षा वोट हासिल हुए। 1140 छात्रों ने अपने मत अधिकार को बुलाया। किसी ने भी ‘नोटा’ का बटन नहीं दबाया। सतपोर्टा चक्रवर्ती एकमात्र लड़की उम्मीदवार है जिसने 2424 वोट हासिल करके महासचिव के पद के लिए उम्मीदवार विजय कुमार को 1094 मतों से हराया। विश्वविद्यालय परिसर में परिणाम की घोषणा के तुरंत बाद जश्न मनाया गया और स्वतंत्रता के नारे लगाए गए। एक दूसरे के चेहरे पर गुलाल लगाया गया। कन्हैया कुमार ने अपने उत्तराधिकारी को बधाई दी .मरकआभ मंत्री किरण रिजुजी ने इस सफलता को खारिज कर देने की विचारधारा की सफलता करार दिया।

उन्होंने आरोप लगाया कि वामपंथी नेताओं ने खारिज कर देने के सिद्धांत को रोमांस रंग दे दिया था। चार महत्वपूर्ण पदों पर वामपंथी गठबंधन के उम्मीदवारों ने कब्जा कर लिया है। एबीवीपी सरफएक पद प्राप्त कर सकी ‘इससे इंकार कर देने के सिद्धांत की सफलता साबित होती है।

TOPPOPULARRECENT