Thursday , October 19 2017
Home / Uttar Pradesh / जेल में बंद बेकसूर मुसलमान नौजवानों की रिहाई के लिए मुत्तहिद हों

जेल में बंद बेकसूर मुसलमान नौजवानों की रिहाई के लिए मुत्तहिद हों

रियासत बिहार के अक्लियती फ्लाह के वज़ीर शाहिद अली खान पर एसएसबी के जरिये लगाए गए इल्ज़ामात के जमन में मुखतलिफ़ अखबरात में मुखतलिफ़ लोगों के मुजमति बयान शाए हुये और अब तक हो रहे हैं जो के बहुत ही खुश आयंद पहलू है और एक अच्छा कदम भी है मगर

रियासत बिहार के अक्लियती फ्लाह के वज़ीर शाहिद अली खान पर एसएसबी के जरिये लगाए गए इल्ज़ामात के जमन में मुखतलिफ़ अखबरात में मुखतलिफ़ लोगों के मुजमति बयान शाए हुये और अब तक हो रहे हैं जो के बहुत ही खुश आयंद पहलू है और एक अच्छा कदम भी है मगर आय काश ये हौसला और हिम्मत इस मौके पर भी दिखा होता जब वज़ीर से बेश्तर कुछ शरपसंद अनासिर के जरिये लगाए गए बे बुनियाद इल्ज़ामात के नतीजे में सैकड़ों बे कसूर बे गुनाह नौजवानों को जेल की सलाखों में बंद करके ऐसी ऐसी अजायतें दी जा रही हैं जिसे सुनकर इंसानियत काँप जाती है।

ये बातें एक खुसुसि मुलाक़ात में हयात फाउंडेशन धनबाद के सदर मौलाना मोहम्मद नौशाद आलम ने बताई। उन्होने आगे बताया के आज भी सैकड़ों की तादाद में बे कसूर नौजवान सिर्फ झूठे और बे बुनियाद इल्ज़ामात में जेलों में बंद हैं और अपनी रिहाई के लिए दुहाई दे रहे हैं मगर अफसोश के कोई भी मुस्लिम रहनुमान की फरियाद को सुनने के लिए तैयार नहीं और न ही उन्हें ब इज्ज़त रिहाई दिलाने के लिए अज़म हैं।

मैं तमाम मुस्लिम रहनुमाओं से दरख्वास्त करता हूँ के ख़्वाह उनका ताल्लुक किसी भी पार्टी से हो वो बे कसूर नौजवान की रिहाई के लिए अब तो पुर अज़म हो जाएँ और स्वामी असीमा नन्द जी ने जिन जिन मुजरिमों की निशान देही की है उन्हें सजा दिलाने के लिए एक ज़ुबान और एक आवाज हो जाएँ वरना ये चिंगारी जो आज शाहिद अली खान तक पहुंची है बहुत जल्द हम सभों के वजूद को भी जला कर खाक कर देगी क्योंकि बरबादियों के मशवरे हैं असमानों में

TOPPOPULARRECENT