Sunday , October 22 2017
Home / Crime / जेल में वंज़ारा की मुआविन मुल्ज़िम राजकुमार पांडियन को ज़िद-ओ-कूब का इन्किशाफ़

जेल में वंज़ारा की मुआविन मुल्ज़िम राजकुमार पांडियन को ज़िद-ओ-कूब का इन्किशाफ़

ख़ुसूसी सी बी आई अदालत ने आज साबरमती सेंटर्ल जेल ओहदेदारों को तलब कर लिया जबकि सुहराब उद्दीन शेख़ एनकाउंटर मुक़द्दमा के मुल्ज़िम और गुजरात के साबिक़ डी आई जी डी जी वंज़ारा पर इल्ज़ाम आइद किया गया हैकि इस ने जेल के अंदर मुआविन ( समर्थ

ख़ुसूसी सी बी आई अदालत ने आज साबरमती सेंटर्ल जेल ओहदेदारों को तलब कर लिया जबकि सुहराब उद्दीन शेख़ एनकाउंटर मुक़द्दमा के मुल्ज़िम और गुजरात के साबिक़ डी आई जी डी जी वंज़ारा पर इल्ज़ाम आइद किया गया हैकि इस ने जेल के अंदर मुआविन ( समर्थक )मुल्ज़िम राजकुमार पांडियन को ज़िद-ओ-कूब किया ( मारा पीटा) है।

मुअत्तल आई पी एस ओहदेदार राजकुमार पांडियन साबरमती सैंटर्ल जेल में अपनी गिरफ़्तारी के वक़्त से 2007 में डी जी वंज़ारा की गिरफ़्तारी के बाद इस के साथ है। इस ने एक शिकायत 22 जुलाई को सी बी आई अदालत में दर्ज करवाई कि वंज़ारा ने उसे ज़िद-ओ-कूब किया ( मारा पीटा) है। 26 जुलाई को जब पांडियन को दीगर मुल्ज़िम के साथ अदालत में पेश किया गया तो इस ने सी बी आई जज एच एस ख़ोतवाद से शिकायत की कि उसे वंज़ारा की जानिब से बार बार ज़िद-ओ-कूब के बावजूद जेल के ओहदेदारों ने इस की शिकायात को नजरअंदाज़ किया है। इस पर सी बी आई जज ने जेल ओहदेदारों को तलब करने का हुक्म दिया।

TOPPOPULARRECENT