Tuesday , October 17 2017
Home / Sports / जोकोविच ने ऑस्ट्रेलियन ओपन का सिंगल्ज़ ख़िताब जीत लिया

जोकोविच ने ऑस्ट्रेलियन ओपन का सिंगल्ज़ ख़िताब जीत लिया

मैलबोर्न ३० जनवरी ( एजैंसीज़ ) आलमी नंबर एक टेनिस स्टार नवाक़ जोकोविच ने तक़रीबा छः घंटों तक चले ऑस्ट्रेलियन ओपेन के तवील तरीन फाईनल मुक़ाबला में आलमी नंबर दो राफेल नडाल को शिकस्त देते हुए ऑस्ट्रेलियन ओपेन का सिंगल्ज़ ख़िताब जीत लिया ह

मैलबोर्न ३० जनवरी ( एजैंसीज़ ) आलमी नंबर एक टेनिस स्टार नवाक़ जोकोविच ने तक़रीबा छः घंटों तक चले ऑस्ट्रेलियन ओपेन के तवील तरीन फाईनल मुक़ाबला में आलमी नंबर दो राफेल नडाल को शिकस्त देते हुए ऑस्ट्रेलियन ओपेन का सिंगल्ज़ ख़िताब जीत लिया है । ये साल का पहला ग्रांड सलाम ख़िताब भी था जो जोकोविच को इंतिहाई मशक़्क़त और सख़्त जद्द-ओ-जहद के बाद हासिल हुआ ।

राफेल नडाल ने भी मैच में शानदार मुज़ाहमत की और कई मौक़ों पर उन्हों ने सबक़त भी हासिल करते हुए जोकोविच को पीछे भी छोड़ दिया था ताहम जोकोविच ने अपने हवास क़ाबू में रखते हुए हर मौक़ा पर शानदार वापसी की और उन्हों ने सिंगल्ज़ ख़िताब जीत लिया । आख़िरी सेट में एक बार फिर नडाल 4 – 2 से आगे हो गए थे लेकिन यहां से जोकोविच ने शानदार वापसी करते हुए दो मर्तबा नडाल की सरवेस ब्रेक की और अपनी सरविस को बरक़रार रखने में कामयाब रहे और उन्हों ने एक बहतरीन सरविस पर तेज़ शॉट लगाते हुए ऑस्ट्रेलियन ओपन का सिंगल्ज़ ख़िताब अपने नाम कर लिया ।

ये मुक़ाबला तक़रीबा छः घंटों तक जारी रहा और हर सीट में दोनों ही खिलाड़ियों ने शानदार मुज़ाहरा करते हुए शाइक़ीन को महज़ूज़ किया । जोकोविच ने ये मुक़ाबला 5 – 7, 6 – 2, 6 – 4, 6 – 7, 7 – 5 से जीत लिया । पहला सेट नडाल ने दूसरा और तीसरा सेट जोकोविच ने जीता था ।

चौथा सेट फिर एक बार नडाल ने जीत कर मुक़ाबला को पाँच सेटों तक ले गए और आख़िरी सीट में ज़बरदस्त मुसाबक़त के बाद एक बार फिर जोकोविच ने सेट जीत लिया और वो फ़र्त मुसर्रत से मैदान पर लेट गए । आख़िरी सेट में जिस वक़्त स्कोर 4 – 4 से मुसावी हो गया था और नवीं गेम में नडाल सरवेस कर रहे थे उस वक़्त वो दो प्वाईंटस से आगे थे ।

तीसरे प्वाईंट को भी नडाल के हक़ में क़रार दे दिया गया ताहम जोकोविच ने उसे चैलेंज किया और ये दरुस्त रहा । यहीं से मैच में जोकोविच की वापसी अमल में आई और उन्हों ने नडाल की सरविस ब्रेक करने में कामयाबी हासिल करते हुए सबक़त हासिल करली थी । यही सबक़त सेट और मैच के इख़तेताम तक बरक़रार रही ।

मैच के दौरान राफेल नडाल जहां मुसलसल चुसती-ओ-फुर्ती का मुज़ाहरा कर रहे थे वहीं जोकोविच आख़िरी लमहात में काफ़ी थक चुके थे और एसा लग रहा था कि वो मैच के इख़तेताम तक मुक़ाबला जारी नहीं रख पाएंगे ताहम उन्हों ने हौसलामंदी के साथ मुज़ाहरा करते हुए ये कामयाबी हासिल की ।

नडाल के ख़िलाफ़ किसी ग्रांड सलाम टूर्नामैंट के फाईनल में ये उन की मुसलसल तीसरी कामयाबी रही । मैलबोर्न की शदीद गर्मी में तक़रीबा छः घंटों तक जद्द-ओ-जहद के बाद जैसे ही कामयाबी मिली जोकोविच जज़बात से तक़रीबा बेक़ाबू हो गए । पहले तो वो मैदान पर लेट गए और जब उठे तो उन्हों ने अपनी टी शर्ट उतार फेंकी और बुलंद आवाज़ से चीख लगाते हुए ग्राउंड में टहलने लगे ।

वो एक मौक़ा पर शाइक़ीन के करीब पहूंच गए और अपने पर सितारों वगैरह से हाथ मिलाने के इलावा वहां नसब साईन बोर्ड पर भी मुक्के बरसाने लगे । इस तरह उन्हों ने इस कामयाबी पर जज़बात का इज़हार किया ।

TOPPOPULARRECENT