Sunday , August 20 2017
Home / Crime / झाबुआ धमाकों का असल मुल्ज़िम पुलिस की गिरिफ़त से बाहर

झाबुआ धमाकों का असल मुल्ज़िम पुलिस की गिरिफ़त से बाहर

झाबुआ( मध्य प्रदेश ): मध्य प्रदेश कांग्रेस सदर अरूण यादव , साबिक़ मर्कज़ी वज़ीर कांति लाल धोरीह , साबिक़ रुकन असेम्बली ज़ावीरमीडा और दीगर को जिन्होंने यहां एक पुलिस स्टेशन का 19घंटों तक अमलन मुहासिरा कर दिया था आज गिरफ़्तार करके अदालत में पेश किया गया बादअज़ां उन्हें रिहा कर दिया गया।

कांग्रेस लीडरों ने मध्य प्रदेश बी जे पी सदर नंद कुमार सिंह चौहान के ख़िलाफ़ केस दर्ज करने के मुतालिबे पर कल से कोतवाली पुलिस स्टेशन के बाब अलद अखिला पर धरना देते हुए बैठ गए थे क्योंकि बी जे पी लीडर ने बीतलवाद धमाकों के असल मुल्ज़िम राजिंदर क़सवा का भूरिया के फ़र्ज़ंद डाँक्टर क्रांत को क़रीबी दोस्त क़रार दिया।

गुज़िश्ता हफ़्ते पेश आए इस वाक़िये में 89 अफ़राद हलाक और 100 से ज़ाइद लोग ज़ख़मी हुए थे। ज़िला पुलिस सुप्रिटेंडेंट‌ मिस्टर जी जी पांडे ने बताया कि एहतेजाजी कांग्रेस लीडरों यादव, भूरिया , अमीडा और दीगर को आज सुबह गिरफ़्तार कर लिया गया और उन्हें सब डीवीझ़नल मजिस्ट्रेट सय्यद इशफ़ाक़ अली सदारत में पेश करने पर बाज़ क़ानूनी कार्यवाईयों की तकमील के बाद रिहा कर दिया गया।
भूरिया ने बताया कि बी जे पी लीडर के ख़िलाफ़ केस दर्ज किए जाने तक कांग्रेस क़ाइदीन और कारकुनान एहतेजाज करते रहेंगे।उन्होंने कहा कि जब सदर प्रदेश कांग्रेस अरूण यादव ने ये इल्ज़ाम आइद किया कि राजनद क़सवा आर एस एसका कारकुन है पुलिस ने हुकूमत के दबाव‌ में आकर उनके ख़िलाफ़ केस दर्ज कर दिया। लेकिन बी जे पी लीडर नंद कुमार ने इस तरह का इल्ज़ाम आइद किया है तो उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई क्यों नहीं की जाती। दरीं असनाए पुलिस ने मफ़रूर राजिंदर क़सवा की बीवी प्रमीला और फ़र्ज़ंद शुभम से पूछताछ की है लेकिन कोई सुराग़ दस्तियाब नहीं हो सका।

TOPPOPULARRECENT