Thursday , September 21 2017
Home / Bihar/Jharkhand / झारखंड शिक्षक पात्रता परीक्षा : हाइटेक तरीके से नकल, दो परीक्षार्थी गिरफ्तार

झारखंड शिक्षक पात्रता परीक्षा : हाइटेक तरीके से नकल, दो परीक्षार्थी गिरफ्तार

रांची/हटिया : झारखंड शिक्षक पात्रता परीक्षा (जेटेट) की परीक्षा दो पालियों में आयोजित की गयी थी. पहली पाली की परीक्षा सुबह 10:00 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक चली, जबकि दूसरी पाली की परीक्षा दोपहर 1:30 बजे से शाम 4:00 बजे तक चली. सुबह की पाली में चल रही परीक्षा के दौरान तुपुदान के ब्रिजफोर्ड स्कूल स्थित परीक्षा केंद्र से छात्र जयप्रकाश चंद्र (30 वर्ष ) को पकड़ा गया.

तुपुदाना पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है. वहीं, दूसरी पाली की परीक्षा के दौरान उपेंद्र पासवान को बरियातू के सेंट्रल एकेडमी स्कूल में पकड़ा गया. दोनों परीक्षार्थियों को हजारीबाग के रैकेट ने नकल करने के सभी संसाधन उपलब्ध कराये थे. रैकेट ने दोनों को तार युक्त सेंडो गंजी, मोबाइल, चिप, माइक्रोफोन आदि दिया था. इन सबके लिए रैकेट ने उपेंद्र से 15 हजार, जबकि जयप्रकाश से 10 हजार रुपये लिये थे. ब्रिजफोर्ड स्कूल से गिरफ्तार जयप्रकाश चंद्र, डालटनगंज के पांडु थाना क्षेत्र के कुरलिया का निवासी है. वहीं, उपेंद्र पासवान, पलामू के छतरपुर कंचनपूर गांव निवासी है़

ऐसे हुआ शक : सदर डीएसपी विकास चंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि एसएसपी को परीक्षा में हाइटेक तरीके से नकल होने की सूचना मिली थी. उसी के आधार पर पुलिस हर सेंटर पर चेकिंग कर रही थी. सदर डीएसपी के साथ बरियातू पुलिस की टीम सेंट्रल एकेडमी, बरियातू पहुंची. चेकिंग के दौरान उपेंद्र पासवान द्वारा बिना मोबाइल के बात करने पर पुलिस को शक हुआ. उस पर थोड़ी देर नजर रखी, तो साफ हो गया कि वह मोबाइल पर बात कर रहा है. पुलिस उसे कमरे से निकाल कर बाहर ले आयी और जांच किया तो सच्चाई सामने आ गयी. उसकी गंजी में तार का एक स्विच लगा हुआ था. तार अंडरवीयर में रखे मोबाइल से जुड़ा था. कान में माइक्रोफोन लगा हुआ था. उसे गिरफ्तार कर और उसका काॅपी जब्त कर लिया गया. इसी तरह तुपुदाना से जयप्रकाश चंद्र को गिरफ्तार किया गया. उसके पास से भी वही सामान बरामद हुए. इसकी सूचना जिला शिक्षा पदाधिकारी को भी दे दी गयी. पुलिस ने दोनों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.

परीक्षार्थी के पास मोबाइल, तार युक्त सेंडो गंजी, चिप, माइक्रोफोन था. गंजी में छाती के पास स्वीच लगा हुआ था, जो अंडरबीयर में रखे मोबाइल से जुड़ा था. नहीं दिखने वाला दो माइक्रोफोन दोनाें कान में लगा था. फोन आते ही मोबाइल वाइबरेट करता था, तो परीक्षार्थी छाती पर लगे स्वीच को आॅन कर प्रश्न का उत्तर लिख देता था़

गिरफ्तार परीक्षार्थियों ने पुलिस को बताया कि हजारीबाग का एक गिरोह इसमें काम कर रहा है. शनिवार को गिरोह का एजेंट जयप्रकाश से 10 व उपेंद्र से 15 हजार रुपये लेकर उपकरण उपलब्ध कराये थे. ऐसे में पुलिस प्रश्न पत्र लीक होने की आशंका जता रही है.

TOPPOPULARRECENT