Tuesday , September 26 2017
Home / Khaas Khabar / ट्रिपल तलाक मुस्लिम समाज का अंदुरुनी मामला है- संंघ

ट्रिपल तलाक मुस्लिम समाज का अंदुरुनी मामला है- संंघ

हैदराबाद। देश में फैले तीन तलाक की बहस में आखिरकार संघ के रुख को साफ करते हुए बयान आया। मंगलवार को संघ के जनरल सेक्रेटरी सुरेश जोशी ने कहा ट्रिपल तलाक मुसलमानों का अंदुरुनी मामला है। साथ में ये भी कहा संघ किसी भी तरह के लैंगिक भेद-भाव के खिलाफ है।

संघ के ऑल इंडिया एक्सज्यूटिव मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए भैय्या जी ने  पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा आधुनिक समाज में किसी भी तरह के लैंगिक भेदभाव सही नहीं है। हमें उम्मीद है जो मुस्लिम महिला इंसाफ की आस लेकर अदालत गई है उन्हें इंसाफ मिलेगा। कोर्ट इस मामले इंसानियत के पहलू को ध्यान में रखकर ही फैसला देगा।

वहीं यूनिफॉर्म सिविल कोड मसले पर भैय्या जी ने कहा संघ का स्टैंड साफ है कोई भी कानून जो किसी भी तरह की पक्षपात करता है हम उसके खिलाफ है और ऐसे कानून को खत्म होना चाहिए। कोई भी प्रथा या पंरपरा देश की समाजिक डोर को टोड़ने का काम करती है तो उसे कानून के जरिये खत्म कर देना चाहिए।

पाकिस्तानी कलाकारों के बैन के इश्यू पर भैय्या जी का कहना है कि संघ ये विश्वास करता है कला की कोई सरहद नहीं होती लेकिन भारत और पाकिस्तान के रिश्ते खराब होने की वजह से उन्हें बैन करना पड़ रहा है।

गोरक्षकों के आतंक के सवाल पर उन्होंने कहा गाय की रक्षा होनी चाहिए। गोरक्षा मेे एक पक्ष भावुकता का भी है दुसरा देश के गांवो का आर्थिक पक्ष भी है। गोरक्षकों को अपने स्थानीय क्षेत्रों की गाय की रक्षा करनी चाहिए।

TOPPOPULARRECENT