Thursday , August 17 2017
Home / Delhi / Mumbai / ट्रिपल तलाक़ विरोध के पीछे कोई छिपा एजेंडा नहीं: केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद का बयान

ट्रिपल तलाक़ विरोध के पीछे कोई छिपा एजेंडा नहीं: केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद का बयान

नई दिल्ली : सरकार का कोई ” छिपा एजेंडा नहीं है ” कि वे समान सियोल कोड लागू करे या मुसलमानों में तलाक तलातह प्रथा का विरोध करे। केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने धार्मिक संगठनों और विपक्षी दलों के आरोपों को निराधार बताते हुए पूरी तरह से खारिज कर दिया। उन्होंने यह भी कहा कि भारत अभिव्यक्ति धर्म और आस्था का सम्मान करता है। अवैध या पूर्वाग्रह आधारित प्रथा इसका अभिन्न हिस्सा नहीं हो सकते और न उन्हें सुरक्षा प्रदान की जा सकती है। यह पूरा अंदेशा कि हम समान सियोल कोड प्रवर्तन हैं या हमारा कोई छिपा एजेंडा है, पूरी तरह से निराधार है।

दोनों एक दूसरे से बिल्कुल कनेक्ट नहीं किया जाना चाहिए। विधि आयोग उसकी समीक्षा कर रहा है और व्यापक रूप से सभी रुचि रखने वालों से परामर्श की संभावना है। रविशंकर प्रसाद पीटीआई को साक्षात्कार दे रहे थे। उन्होंने कहा कि आम सियोल कोड का विरोध करने वाले ऐसा कानून समिति से कह सकते हैं जो जनता से इस विषय पर राय मांगी है। विपक्ष भी कहो लेकिन सरकार फिलहाल कुछ भी नहीं कहना चाहती।

विधि आयोग को अपना एक सिद्धांत स्थापित करने दिजिए। पूरे तर्क छिपा एजेंडा के बारे में ऐसे हैं जिनकी में खंडन करता हूं। क्योंकि मुझे इसका पूरा अधिकार है। रविशंकर प्रसाद ने ” अछूत ” प्रथा के हवाले किया और कहा कि धार्मिक कारकों को संवैधानिक मूल्यों के अनुसार करना चाहिए। उन्होंने लैंगिक न्याय, लैंगिक समानता और लिंग गरिमा पर जोर दिया और कहा कि यह नरेंद्र मोदी सरकार की प्राथमिक और प्राथमिकता हैं।

उन्होंने कहा कि हम अभिव्यक्ति धर्म और अभिव्यक्ति की आस्था का सम्मान करते हैं। जिन्हें मौलिक अधिकारों के रूप में संरक्षण प्रदान किया गया है लेकिन हर अवैध या पूर्वाग्रह पर आधारित प्रक्रिया विश्वास का अभिन्न करार नहीं दिया जा सकता। उदाहरण के लिए क्या कोई इस बात का दावा कर सकता है कि दलितों के साथ अछूत होने का रवैया विश्वास का अभिन्न हिस्सा है और वे इस बहाने इस पर अमल कर सकता है इसलिए धार्मिक कारकों भी संवैधानिक मूल्यों के अनुसार होने चाहिए। सरकार ने 7 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट में मुसलमानों में ट्रिपल तलाक़ का विरोध किया था और कहा था कि उसे धर्म का अभिन्न करार नहीं दिया जा सकता।

ट्रिपल तलाक़ के मसले पर सवालों का जवाब देते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा कि कुछ महिलाएं अपने अधिकार नहीं छोड़ सकते और किसी विशेष धर्म से उनका संबंध होने की वजह से उन्हें उनके अधिकारों से वंचित नहीं किया जा सकता। क्या भारत जैसे धर्मनिरपेक्ष देश में जो महिलाओं आबादी का एक बड़ा हिस्सा हैं, जलजनित हालत में जीने पर उन्हें इसलिए मजबूर किया जा सकता है कि वह किसी विशेष धर्म से संबंध रखती हैं।

उन्होंने कहा कि लैंगिक समानता हमारा संवैधानिक अधिकार है। जिस दिन संविधान अस्तित्व में आया था उसी दिन से यह मौलिक अधिकार घोषित किया गया है। केंद्रीय कानून मंत्री ने कहा कि महिलाओं के विकास और सशक्त सरकार की प्राथमिकताओं में से एक है। उन्होंने कहा कि रोटी बचाव बेटी बचाओ कार्यक्रम एक बड़ा आंदोलन बन चुका है और मोदी सरकार आंदोलन भ्रूण को खत्म करने के खिलाफ है।

इससे पता चलता है कि सरकार लैंगिक समानता के मुद्दे पर गंभीर है। कानून मंत्री ने कहा कि कुछ लोग ट्रिपल तलाक़ प्रक्रिया शरित उल्लंघन या मुस्लिम पर्सनल लॉ का उल्लंघन करार दे रहे हैं, उनके अंदेशे इस मुद्दे पर हमारे हल्फ़नामे में शामिल हैं। मुस्लिम देशों की बड़ी संख्या में ट्रिपल तलाक़ को निषिद्ध है। मध्यस्थता और परामर्श को पहला कदम करार दिया गया है। कई देशों में कानून द्वारा ट्रिपल तलाक़ बर्खास्त कर दी गई है। ईरान, मोरक्को, मिस्र, ट्यूनीशिया, इंडोनेशिया, अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान ऐसे ही देश हैं। अब मैं सीधे सवाल करना चाहता हूँ अगर यह इस्लामी या प्रमुख मुस्लिम आबादी वाले देशों में तलाक तलातह पर प्रतिबंध लगाया जाता है और इसे शरीयत या पर्सनल लॉ का उल्लंघन नहीं माना जाता तो यही दलील भारत जैसे धर्मनिरपेक्ष देश के लिए क्यों उपयोगी नहीं हो सकती।

केंद्रीय मंत्री ने याद दिलाया कि संविधान की धारा 44 संयुक्त कोड के बारे में है और यह संविधान का हिस्सा बनाया गया है। संविधान सभा में बुलंद नेताओं जैसे जवाहरलाल नेहरू, सरदार पटेल, राजेंद्र प्रसाद, बीआर अंबेडकर, मौलाना आजाद और अन्य शामिल थे।

TOPPOPULARRECENT