Tuesday , October 24 2017
Home / Hyderabad News / ट्रैफ़िक ख़िलाफ़ वरज़ीयों के नाम पर भारी चाला नात ,शहरीयों पर ज़्यादती

ट्रैफ़िक ख़िलाफ़ वरज़ीयों के नाम पर भारी चाला नात ,शहरीयों पर ज़्यादती

वाई एस आर कांग्रेस पार्टी लीडर आमिर अली ख़ां ने हैदराबाद-ओ-साइबरआबाद ट्रैफ़िक पुलिस पर ज़ोर दिया है कि वो शहर में मोटर र साइकिल रानों और मोटर रानों पर भारी जुर्माने-ओ-चालान आइद करने का अमल रोक दे और ट्रैफ़िक की बहाली के लिए अमलेत पस

वाई एस आर कांग्रेस पार्टी लीडर आमिर अली ख़ां ने हैदराबाद-ओ-साइबरआबाद ट्रैफ़िक पुलिस पर ज़ोर दिया है कि वो शहर में मोटर र साइकिल रानों और मोटर रानों पर भारी जुर्माने-ओ-चालान आइद करने का अमल रोक दे और ट्रैफ़िक की बहाली के लिए अमलेत पसंदी का मुज़ाहरा किया जाये।

एक सहाफ़ती बयान में आमिर अली ख़ां ने कहा कि ट्रैफ़िक पुलिस को मोटर रानों से भारी जुर्माने इकट्ठा करने की फ़िक्र ग़ैर दरुस्त है, ज़्यादा ट्रैफ़िक के बहा को बाक़ायदा बनाने पर ज़्यादा से ज़्यादा तवज्जा दीनी चाहीए। ट्रैफ़िक पुलिस की अंधा धुंद चालान कार्यवाईयों को लब सड़क ज़बरदस्ती रक़ूमात की वसूली का गै़रक़ानूनी अमल क़रार देते हुए वाई एस आर कांग्रेस पार्टी लीडर ने कहा कि ट्रैफ़िक पुलिस के राइज करदा चालानात अब मोटरसाइकिल-ओ-मोटर सवारों की रोटी रोज़ी पर असरअंदाज़ होरहे हैं।

ट्रैफ़िक पुलिस की ये एन और मुहसिन ज़िम्मेदारी है कि वो शहरीयों को हरासाँ करने के बजाये इन में ट्रैफ़िक उसूलों से मुताल्लिक़ शऊर बेदार करे।

ट्रैफ़िक क़वानीन की ख़िलाफ़वरज़ी बिलाशुबा एक मुअज़्ज़िज़ शहरी की तर्ज़-ए-ज़िदंगी के शायान-ए-शान नहीं होती ताहम पुलिस का रवैया और उसकी हरकतों ने शहरीयों को बदज़न कर दिया है।

अवाम को ट्रैफ़िक क़वाइद पर अमल करने की दोस्ताना तरग़ीब देने के बजाये ट्रैफ़िक ख़िलाफ़ वरज़ीयां करने वालों की जेब हल्की करने पर सारी तवानाई सिर्फ़ की जाती है।

पुलिस की इन ज़्यादतियों से शहरीयों पर मनफ़ी असरात होरहे हैं। पुलिस ज़्यादती का शिकार एक नौजवान जी शैव प्रसाद राजिंदर नगर ने ख़ुदकुशी करली थी।

ट्रैफ़िक चालान की अदमे अदाइगी पर लंगर हउज़ पुलिस ने उसकी मोटर साइकिल ज़बत करली। इस वाक़िये से नौजवान की इज़्ज़त नफ़स को ठेस पहूँची और इस ने 28 जनवरी को नामालूम ज़हरीली शए पी ली और दवाख़ाना उस्मानिया में ईलाज के दौरान 5 फ़बरोरी को फ़ौत होगया।

ये अफ़सोसनाक वाक़िया पुलिस की हरासानी से पेश आया। आमिर अली ख़ां ने कहा कि हैदराबाद साइबरआबाद पुलिस के ट्रैफ़िक शोबों से वाबस्ता अमला अपने फ़राइज़ की अदायगी से ज़्यादा ट्रैफ़िक पुलिस के वजूद को एक मुनफ़अत बख़श शोबा बनाने पर ध्यान दे रहा है।

उन्होंने शहर में ट्रैफ़िक मसाइल और अवाम पर किए जाने वाले जुर्मानों के आदाद-ओ-शुमार के हवाले से बताया कि हैदराबाद-ओ-साइबराबाद पुलिस हदूद में रहने वाले हर तीन में से दो शहरीयों को साल 2013 के दौरान ट्रैफ़िक क़वाइद की ख़िलाफ़वरज़ी पर चालान अदा करना पड़ा है।

महिकमा पुलिस ने साल 2013 में 40.36 लाख मोटर रानों पर जुर्माने आइद करके 67.87 करोड़ रुपये हासिल किए जबकि हैदराबाद सिटी पुलिस ने 30,87,915 अफ़राद से 45.08 करोड़ रुपये जुर्माने के तौर पर वसूल किए हैं।

साइबराबाद पुलिस ने ट्रैफ़िक ख़िलाफ़वरज़ी करने वाले 948,140 मोटर रानों से 22.75 करोड़ रुपये के जुर्माने हासिल किए। आम आदमी जो पहले ही महंगाई से परेशान है और रोज़मर्रा की अशीया को दोगुनी और सहि गुना क़ीमतों में हासिल कररहा है,बर्क़ी और दुसरे बिलों पर मनमानी शरह अदा कररहा है।

ऐसे में ट्रैफ़िक चालानात के ज़रीये उन पर ज़ाइद बोझ डालना सरासर गै़रक़ानूनी-ओ-ग़ैर अख़लाक़ी अमल है। उन्होंने हैदराबाद-ओ-साइबराबाद के कमिश्नरों पर ज़ोर दिया कि वो ट्रैफ़िक क़वाइद से मुताल्लिक़ शहरीयों में शऊर बेदारी मुहिम चलाईं।

पुलिस अमले की तरफ से उन्हें हरासाँ करने के बजाये ट्रैफ़िक के बहा और अपने फ़राइज़ पर ध्यान देने की तरफ तवज्जा मबज़ूल करनी चाहीए। आमिर अली ख़ां ने मोटर रानों और मालकीन से भी अपील की के वो शहर की बेहंगम ट्रैफ़िक के पेशे नज़र अपनी ज़िम्मेदारीयों को महसूस करते हुए ट्रैफ़िक उसूलों पर अमल करें ताकि अपनी मेहनत की कमाई को चालानात की नज़र करने से गुरेज़ किया जा सके।

TOPPOPULARRECENT