Monday , October 23 2017
Home / Bihar News / ठगों के निशाने पर तालिबे इल्म और बेरोजगार

ठगों के निशाने पर तालिबे इल्म और बेरोजगार

नामी गिरामी कॉलेजों में तकनीकी कोर्स में मुफ्त दख्ला का लालच देकर एससी, एसटी और ओबीसी के तालिबे इल्म से ठगी करनेवाले गिरोह का पुलिस ने परदाफाश किया है। यह गोरखधंधा गर्दनीबाग के धीराचक अनिसाबाद में प्रकाश नेचुरल थेरेपी सेंटर की आ

नामी गिरामी कॉलेजों में तकनीकी कोर्स में मुफ्त दख्ला का लालच देकर एससी, एसटी और ओबीसी के तालिबे इल्म से ठगी करनेवाले गिरोह का पुलिस ने परदाफाश किया है। यह गोरखधंधा गर्दनीबाग के धीराचक अनिसाबाद में प्रकाश नेचुरल थेरेपी सेंटर की आड़ में ओप्रेटीव किया जा रहा था। पुलिस ने सेंटर के ओप्रेटर जयप्रकाश सिंह और उसके दो साथियों ओमप्रकाश सिंह और विकास कुमार सिंह को गिरफ्तार कर लिया।

ये तीनों बेऊर के राइचक भट्ठा के रिहायसी हैं। इन तमाम के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। सेंटर के दफ्तर से काफी तादाद में दस्तावेज बरामद किये गये हैं। एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि जालसाजों के इस गिरोह ने कई तालिबे इल्म से हजारों रुपयों की ठगी की है। तीनों को जेल भेज दिया गया है और इनके नेटवर्क की छानबीन की जा रही है।

लेते थे 15 से 20 हजार
एससी, एसटी और ओबीसी तालिबे इल्म के लिए ये लोग मुल्क के नामी कॉलेजों में बी-टेक, बी-फार्मा, एमबीए वगैरह कोर्सेज में दख्ला दिलाने का सुनहरा मौका बता कर एक तालिबे इल्म से 15 से 20 हजार ठगते थे। ये लोग दख्ला के साथ ही हॉस्टल और खाने की इंतेजाम का भी लालच देते थे। यह तालिबे इल्म की हालत पर डिपेंड करता था। इसके लिए वे लोग तालिबे इल्म को हुकूमत की स्कीम बताने से भी नहीं चूकते थे।

ऑन स्पॉट एडमिशन
पैसा लेने के तुरंत बाद ही ये लोग ऑन स्पॉट एडमिशन किसी भी कॉलेज में कर देते थे। इसके लिए इन लोगों ने कई नामी कॉलेज के प्रिन्सिपल और ओहदेदारों का दस्तखत सादा दस्तावेज रखा था। जैसे ही कोई इन्हें पैसा चुकता कर देता, वैसे ही उन कागजात पर नाम और पता लिख कर दस्तावेज को पूरा कर दिया जाता और उन्हें मुतल्लिक़ कॉलेजों में दख्ला के लिए भेज देता। लेकिन कागज फर्जी होने की वजह तालिबे इल्म को अदारे से वापस लौटा दिया जाता था।

एसएसपी को दी जानकारी
एसएसपी मनु महाराज को दरभंगा के बिरोल के रोहाड़ रिहायसी प्रमोद कुमार यादव ने जानकारी दी कि उन लोगों से दख्ला के नाम पर पैसे ले लिये गये हैं और फर्जी एडमिशन सेर्टिफिकेट दे दिया गया है। इस इत्तिला पर सचिवालय डीएसपी मनीष कुमार की कियादत में पुलिस टीम ने छापेमारी की और तीनों जालसाजों को पकड़ लिया।

डायरी में मिले नाम
ये तीनों जिन-जिन तालिबे इल्म से पैसे लेते थे या लेनेवाले थे, उनके नाम, पता और मोबाइल नंबर को एक डायरी में दर्ज कर रखा था। पुलिस को वह डायरी भी हाथ लग गयी, जिसमें तालिबे इल्म की पूरी जानकारी थी।

TOPPOPULARRECENT