Friday , September 22 2017
Home / India / डींगरहेडी की मांगें पूरी ने होने पर, डीसी से मिला बार प्रतिनिधिमंडल

डींगरहेडी की मांगें पूरी ने होने पर, डीसी से मिला बार प्रतिनिधिमंडल

मेवात, 19 सितंबर : हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खटटर द्वारा मेवात जिला के डीगरहेडी डबल मर्डर और डबल गैंग रेप मामले को मामूली घटना करार दिये जाने से मेवात के बार एसोसिएशन में भारी नाराजगी देखी गई वहीं सीएम के इस ब्यान को जाति विशेष और जाति क्षेत्र को ध्यान में रखकर दिया गया ब्यान करार दिया है। वकीलों ने ऐसे ब्यान देने पर उनसे तुरंत त्याग पत्र देने कि मांग की है और साथ ही सीएम से पूछा है कि देश कि एक भी ऐसी घटना बतायें जिसमें मां-बाप के सामने बेटियों का रेप किया गया हो और बेटियों के सामने मामा-मामी का कत्ल किया गया है।
रमजान चौधरी वरिष्ठ ऐडवोकेट, महमूदुल हसल पूर्व बार प्रधान, मोहम्मद तलहा वरिष्ठ ऐडवोकेट सहित कई वकीलों का कहना है कि मुख्यमंत्री ने ऐसा घटिया और बचकाना ब्यान देकर राजधर्म का पालन नहीं किया है। जब सीएम साहब ही इतने बडे जघन्य अपराध को मामूली घटना करार देगें तो इंसाफ कि उम्मीद कैसे कि जा सकती है। सीएम ने ये ब्यान एक समाज को खुश करने के लिये दिया है। मेवात के आपसी भाईचारा को तोडने कि कोशिश  करने के लिये दिया गया बयान है। डीगरहेडी कांड की पैरवी कर रहे वकीलों का कहना है कि जिस अपराध में मां-बाप के सामने बेटियों का रेप किया गया हो और बेटियों के सामने मामा-मामी का कत्ल किया गया है। घर में सब कुछ लूट लिया गया हो। चार घण्टे तक बेटियों के साथ हैवानियत की गई हो उनके गुप्तांगों में जख्म किये गये हों। अगर सीएम साहब को ऐसा जघन्य अपराध भी मामूली लगता है तो सीएम साहब बताये कि देश में इससे बडा अपराध कौन से हुआ है। जब सीएम ही ऐसा बचकाना ब्यान देगें तो इंसाफ कि कैसे उम्मी की जा सकती है।
बार एसोसिएशन मेवात के प्रधान आबिद हुसैन ने बताया कि आज बार के सदस्यों ने मेवात के डीसी मणिराम शर्मा को एक ज्ञापन सौपा जिसमें मांग की गई कि सीएम ने डीगरहेडी के मामले में 7 सितंबर को उन्हें आश्वासन दिया था कि उनकी सभी मांगी दो दिन में पूरी कर दी जाऐगीं। तीन परिवारों को नोकरी, 45 लाख मुआवजा अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई लेकिन सीएम ने अभी तक एक मांग भी पूरी नहीं की है। उन्होने कहा या तो सीएम उनकी मांगों को तुरंत लागू करे। उन्होने कहा कि एक बार सीएम से अपनी बात और रखना चहाते हैं अगर उनकी मांगों पर अमल नहीं हुआ तो फिर मेवात में महाप्रदर्शन और महा पंचायत आयोजित कर इस मामले को जनता के बीच रखा जाऐगा।

साभार : युनुस अल्वी

TOPPOPULARRECENT