Monday , October 23 2017
Home / India / डीज़ल और पकवान गैस पर सब्सीडी ख़त्म ( समाप्त) करने का मश्वरा

डीज़ल और पकवान गैस पर सब्सीडी ख़त्म ( समाप्त) करने का मश्वरा

पेट्रोल की क़ीमतों में इज़ाफ़ा पर शोर-ओ-गुल के दरमयान मर्कज़ी वज़ीर देही तर कुयात (Rural development minister )जय राम रमेश ने डीज़ल, केरोसीन और एल पी जी पर सब्सीडी देने की पालिसी पर तन्क़ीद (Notice/समीक्षा) करते हुए तजवीज़ (फैसला/प्रस्ताव) पेश की कि सब्सीडी मरह

पेट्रोल की क़ीमतों में इज़ाफ़ा पर शोर-ओ-गुल के दरमयान मर्कज़ी वज़ीर देही तर कुयात (Rural development minister )जय राम रमेश ने डीज़ल, केरोसीन और एल पी जी पर सब्सीडी देने की पालिसी पर तन्क़ीद (Notice/समीक्षा) करते हुए तजवीज़ (फैसला/प्रस्ताव) पेश की कि सब्सीडी मरहला वार ख़त्म करने का लायेहा-ए-अमल तैयार किया जाए क्योंकि सब्सीडी से मुस्तहिक़ अफ़राद (ज़रूरतमंद लोगों) को फ़वाइद (फायदे) हासिल नहीं हो रहे हैं। जय राम रमेश ने प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि हमारे मुल्क में अगर हम डीज़ल, केरोसीन और एल पी जी को यकजा (इकट्ठा/ एक जगह) करे तो उन पर दी जाने वाली सब्सीडी की रक़म एक लाख 90 हज़ार करोड़ रुपये होती है।

देही तर कुयात ( Rural Devlopment/ ग्रामीण विकास) और पीने के पानी की वज़ारतों का जुमला बजट इसके मुक़ाबला में सिर्फ 99 हज़ार करोड़ रुपये है। उन्होंने कहा कि ये किस किस्म का मुल्क है।

देही तर कुयात (Rural Devlopment/ग्रामीण विकास) के लिए 99 हज़ार करोड़ रुपये और डीज़ल वग़ैरा पर इतनी भारी सब्सीडी दिफ़ा के लिए हम एक लाख 80 करोड़ रुपय ख़र्च करते हैं, लेकिन इससे कहीं ज़्यादा रक़म बतौर सब्सीडी अदा करते हैं। जय राम रमेश ने पेट्रोल की क़ीमत में 7.50 रुपये के इज़ाफ़ा के बारे में सवाल का जवाब देते हुए कहा कि पेट्रोल की फ़रोख्त(विक्री) पर टैक्स आइद (लगाना) किए जाने चाहिऐं ताकि मुल्क में तरक़्क़ीयाती काम हो सके।

TOPPOPULARRECENT