Saturday , August 19 2017
Home / Sports / डेविस कप के एशिया/ओसीनिया ग्रुप के दूसरे दौर के मुकाबले के लिए भारत की संभावित टीम का ऐलान

डेविस कप के एशिया/ओसीनिया ग्रुप के दूसरे दौर के मुकाबले के लिए भारत की संभावित टीम का ऐलान

नई दिल्ली: अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) ने सोमवार को उजबेकिस्तान के खिलाफ होने वाले डेविस कप के एशिया/ओसीनिया ग्रुप के दूसरे दौर के मुकाबले के लिए भारत की संभावित टीम का ऐलान कर दिया. एकल खिलाड़ी साकेत मायनेनी और सुमीत नागल चोट के कारण इस मुकाबले में हिस्सा नहीं ले पाएंगे. युवा खिलाड़ी प्राजनेश गुन्नेस्वरन और एन. श्रीराम बालाजी को टीम में जगह मिली है. मुकाबले के लिए अंतिम चार खिलाड़ियों की टीम का ऐलान सात अप्रैल को होने वाले मुकाबले से दो दिन पहले किया जाएगा. महेश भूपति के टीम का गैर-प्रतिस्पर्धी कप्तान चुने जाने के बाद भारत का यह पहला मुकाबला होगा.

भूपति ने कहा, “मौजूदा खिलाड़ियों को देखते हुए मैं आत्मविश्वास के साथ कह सकता हूं कि यह भारत की सबसे मजबूत टीम है.” उन्होंने कहा, “अंतिम टीम का चयन मैं खिलाड़ियों के अगले तीन सप्ताह में उनके प्रदर्शन और फिटनेस को देखकर करूंगा.”

उन्होंने कहा, “डेविस कप टीम का कप्तान होने के नाते मैं एक मजबूत टीम बनाना चाहता हूं और उम्मीद करता हूं कि इसमें मुझे खिलाड़ियों और एआईटीए ससे पूरा समर्थन मिलेगा.”

भारतीय खिलाड़ी डेविस कप में फिटनेस की समस्या से जूझते रहे हैं, खासकर एकल मुकाबले में. इस बात पर गौर करते हुए भूपति ने कहा है कि अंतिम टीम का चयन होने से पहले खिलाड़ियों का फिटनेस टेस्ट कराया जाएगा. भारतीय टीम के कोच जीशान अली ने कहा, “हमें इस बात को सुनिश्चित करना होगा कि खिलाड़ी तीनों दिन खेलने को तैयार हैं कि नहीं.”

उन्होंने कहा, “बोपन्ना को चेन्नई ओपन के दौरान चोट लग गई थी और इसी कारण आस्ट्रेलियन ओपन में उन्हें परेशानी हुई थी. वह न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले महीने हुए डेविस कप के मुकाबले से ठीक पहले स्वस्थ हुए थे. लेकिन राष्ट्रीय टीम से जुड़ने के तीन दिन बाद उन्हें दोबारा चोट लग गई और उन्हें बाहर जाना पड़ा था.”

पेस और भूपति की बीच मनमुटाव जगजाहिर है. बोपन्ना जो भूपति के करीबी माने जाते हैं, उनके भी पेस से रिश्ते अच्छे नहीं हैं, जो रियो ओलम्पिक-2016 में देखने को मिला था.

अली ने हालांकि कहा कि यह तीनों अपने विवाद को परे रखकर टीम हित में काम करेंगे. उन्होंने कहा, “उनके अपने मुद्दे हैं. हर कोई इस बारे में जानता है, लेकिन अतीत मे जो हुआ उसे वह देश के लिए भूल चुके हैं. मुद्दे की बात यह है कि जब देश की बात आती है तो इनमें से कोई भी पीछे नहीं हटता है.”

TOPPOPULARRECENT