Saturday , September 23 2017
Home / Health / डॉक्टर अनअम ने विकलांगता को कामयाबी का रोड़ा नहीं बनने दिया

डॉक्टर अनअम ने विकलांगता को कामयाबी का रोड़ा नहीं बनने दिया

मुज़फ्फराबाद: चेहरे पर स्थायी मुस्कान सजाए नरम लहजे में बात करने वाली डॉक्टर अनअम नजम मुजफ्फराबाद के अस्पताल में मनोविज्ञान विभाग में मरीजों की देखभाल कर रही हैं। उनसे बात करके कतई एहसास नहीं होता कि इस युवा डॉक्टर की अपनी गर्दन से नीचे शरीर पर कोई इख़्तियार नहीं है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

डॉक्टर अनअम मेडिकल के तीसरे साल में थी जब मार्च 2008 में यात्रा के दौरान लुटेरों की गोली ने उन्हें जीवन भर के लिए शारीरिक रूप से विकलांग कर दिया।अपनी विकलांगता की कथा सुनाते हुए पल भर को भी अनअम के चेहरे पर कोई अफसोस नहीं दिखाई दिया। शुरू-शुरू में अनअम को मेडिकल के छात्रा होने के नाते पूरी उम्मीद थी कि कुछ दिनों में वह चलने फिरने लगेंगी क्योंकि उनकी हर समय की गतिशील और बहुतायत व्यक्ति बिस्तर पर लेटने के लिए पैसा नहीं दे सकती थी, लेकिन यह इंतजार महीनों और फिर वर्षों में बदल गया।
उन्हें उठने बैठने, खाने पीने यहां तक कि करवट बदलने जैसे हर छोटे से छोटे काम के लिए घर वालों की मदद की जरूरत पड़ती थी।विकलांगता उनके लिए पहला बड़ा झटका तब लाई जब प्रिय व संबंधी के बाद उनके शिक्षण संस्थान ने भी उनकी पढ़ाई जारी रखने के संबंध में निराशा व्यक्त किया।

अनअम के मुताबिक यही वह क्षण था जब उन्हें एहसास हुआ कि अगर शिक्षा प्राप्त नहीं की तो आने वाली जीवन उनके लिए इससे भी अधिक कठिनाइयां लाएगी। उन्होंने माता-पिता से जिद की कि उन्हें अस्पताल के बिस्तर पर ही किताबें लाकर दी जाएं क्योंकि वह पढ़ाई जारी रखना चाहती हैं।अनअम कहती हैं कि ‘इस सारे समय में अगर मैं पहली बार रोई तो उस दिन जब मैं पहली बार व्हीलचेयर पर बैठी थी लेकिन यह खुशी के आंसू थे क्योंकि मेरे जीवन में हरकत लौट आई थी। अब मैं एक जगह की लेटी नहीं रहूंगी। ‘

कॉलेज प्रशासन ने उन्हें एक मौका देने का फैसला किया और कहा कि अगर अनअम म आने वाले परीक्षा में सफल हो जाती हैं तो उन्हें मेडिकल की पढ़ाई जारी रखने की अनुमति होगी। और अनअम उस परीक्षा में सफल रहीं।अनअम का कहना था, कि “पेशेवर डिग्री प्राप्त करना अब मेरे लिए ज्यादा जरूरी था, क्योंकि आर्थिक स्वायत्तता मैं अपनी शारीरिक दरिद्र को दूर कर सकती थी। ‘

 

अनअम कहती हैं, कि “मैंने अपने आप को ‘मैं ही क्यों?’ वाली निराशा से निकाला क्योंकि जो हुआ उसे बदल नहीं सकती थी अब मुझे बदलाव अपने अंदर लाना था। ‘
‘मेरे लिए महत्वपूर्ण था कि मैं अपने लक्ष्य तक जा रही हूँ या नहीं। इससे फर्क नहीं पड़ता कि मैं अपने पैरों पर चलकर जाती हूँया व्हीलचेयर में। ‘विकलांगता के कारण उत्पन्न होने वाले अन्य चिकित्सा समस्याओं का मुकाबला करते हुए अनअम ने मेडिकल की पढ़ाई पूरी कर ली। यहाँ उनके लिए एक नया फैसले का इंतजार था। विकलांगता के कारण जब वह हाथ हिलाने में सक्षम नहीं थीं इसलिए सपेशलाईज़ेशन के लिए उनके पास बहुत सीमित रास्ते थे। उन्होंने विभाग मनोविज्ञान चुना।

अनअम अब मानसिक रोगियों का सफलतापूर्वक इलाज कर रही हैं। वह कहती है: ‘अक्सर रोगी तो मुझे देखकर ही बेहतर महसूस करने लगते हैं। वे कहती हैं कि अगर आप हिम्मत कर सकते हैं तो हमारे मुद्दे तो आप के सामने कुछ भी नहीं हैं। ‘डॉक्टर अनअम नजम अस्पताल के अलावा भी लोगों केवल लड़कियों को प्रोत्साहित करने के लिए आगे रहती हैं। वे अक्सर समारोहों में भाग ले कर अपने व्यक्तिगत अनुभव बांटकर दूसरों को हार न मानने की हिदायत करती हैं।धीरे धीरे अनअम ने शादी विवाह जैसे समारोहों में भी जाना शुरू कर दिया। वह कहती हैं, कि ‘पहली बार मिलने वाले हमेशा सहानुभूति करते हैं लेकिन मुझे लोगों को बताना है कि यह विकलांगता ही मेरी जिंदगी नहीं बल्कि सिर्फ मेरे जिंदगी का हिस्सा है।’

bbc.urdu

TOPPOPULARRECENT