Saturday , October 21 2017
Home / Crime / तंदूर मर्डर केस : सुशील शर्मा की सज़ाए मौत उम्र क़ैद में तबदील

तंदूर मर्डर केस : सुशील शर्मा की सज़ाए मौत उम्र क़ैद में तबदील

अब जबकि इस वाक़िया को 18 साल का तवील अर्सा गुज़र चुका है जहां एक शौहर ने अपनी ही बीवी का क़त्ल करके उस की नाश को तंदूर में जला दिया था जो कोई और नहीं यूथ कांग्रेस के साबिक़ लीडर सुशील शर्मा थे, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने आज सुशील शर्मा की सज़

अब जबकि इस वाक़िया को 18 साल का तवील अर्सा गुज़र चुका है जहां एक शौहर ने अपनी ही बीवी का क़त्ल करके उस की नाश को तंदूर में जला दिया था जो कोई और नहीं यूथ कांग्रेस के साबिक़ लीडर सुशील शर्मा थे, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने आज सुशील शर्मा की सज़ाए मौत को सज़ाए उम्र क़ैद में तबदील कर दिया जिसने सब को हैरतज़दा कर दिया है।

फ़ाज़िल अदालत की जानिब से सुशील शर्मा को सज़ाए उम्र क़ैद दिए जाने की वजह ये बताई गई है कि सुशील शर्मा का कोई मुजरिमाना रिकार्ड नहीं है और अपनी बीवी का क़त्ल भी शख़्सी मुख़ासमत की वजह से किया था। शर्मा को राहत फ़राहम करते हुए अदालत ने इस्तिदलाल पेश किया कि मक़्तूला के अरकान ख़ानदान ने कभी भी सुशील शर्मा के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई किए जाने में दिलचस्पी नहीं दिखाया और वो ख़ुद भी अपनी बीवी की मौत पर अफ़्सुर्दा था लिहाज़ा समाज को इस से कोई ख़तरा लाहक़ नहीं था।

यहां इस बात का तज़किरा एक बार फिर दिलचस्पी का बाइस होगा कि शर्मा ने अपनी बीवी ने साहनी का क़त्ल सिर्फ़ इस शुबा पर किया था कि इसके किसी ग़ैर मर्द से नाजायज़ ताल्लुक़ात थे। उसने क़त्ल के बाद अपनी बीवी की नाश के टुकड़े टुकड़े करके उस वक़्त की सरकार की निगरानी में चलाई जाने वाली होटल अशोक यात्री निवास की तंदूर भट्टी में जला दिया था।

चीफ़ जस्टिस बी स़्था सीवम ने सुशील शर्मा की इस दर्ख़ास्त पर समाअत से इत्तिफ़ाक़ करलिया था जहां उसने ट्रायल कोर्ट के ज़रिया उसे सज़ाए मौत दिए जाने के फ़ैसला को चैलेंज किया था और दिल्ली हाईकोर्ट ने भी वही सज़ा बरक़रार रखी थी। जुलाई 1995 में किए गए इस क़त्ल ने सारे मुल्क में हलचल मचा दी थी।

बेंच ने सुशील शर्मा को सज़ाए उम्र क़ैद दिए जाने का फ़ैसला सुनाया। हाईकोर्ट ने 19 फ़रव‌री 2007 को सुशील शर्मा को दी जाने वाली सज़ाए मौत को बरक़रार रखा था क्योंकि हाईकोर्ट के मुताबिक़ शर्मा ने रोंगटे खड़े करदेने वाला क़त्ल किया था।

TOPPOPULARRECENT