Sunday , June 25 2017
Home / India / तमिलनाडु: जल्लीकट्टू खेल के दौरान दो शख्स की मौत

तमिलनाडु: जल्लीकट्टू खेल के दौरान दो शख्स की मौत

चेन्नई। तमिलनाडु का लोकप्रिय खेल जल्लीकट्टू रविवार को राज्य के विभिन्न हिस्सों में आयोजित किया गया, जिसमें हजारों लोगों ने हिस्सा लिया। इस खेल में दो लोगों की मौत हो गई है। इस खेल में सांडों को काबू किया जाता है। यह खेल पुडुकोट्टई, त्रिची और ईरोड जिलों में आयोजित किया गया, जबकि कोयंबटूर में बैलगाड़ी दौड़ आयोजित की गई।

पुलिस ने कहा कि पुडुकोट्टई में बैलों को काबू करने की होड़ में दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए और अस्पताल ले जाते समय रास्ते में ही दोनों की मौत हो गई। इस खेल में युवा लोगों को सांडों के कूबड़ पकड़ कर उन्हें काबू में करना होता है। जो व्यक्ति सांड के तीन छलांग लगाने के बाद भी कूबड़ को पकड़े रह जाता है, उसे विजेता घोषित कर दिया जाता है।

यह आयोजन विद्यार्थियों और युवाओं द्वारा सप्ताह भर से जारी आंदोलन के बाद आयोजित किया गया है। तमिलनाडु सरकार ने इसके लिए पशु क्रूरता निवारक अधिनियम में संशोधन कर एक अध्यादेश जारी किया। यह इस खेल पर सर्वोच्च न्यायालय ने मई 2014 में प्रतिबंध लगा दिया था।

मदुरै के अलांगानाल्लुर में यह खेल आयोजित नहीं किया जा सका। आयोजनकर्ताओं ने कहा कि वहां इस खेल को लेकर तैयारी पूरी नहीं हुई थी, इसलिए इसका आयोजन नहीं हो पाया। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने शनिवार को कहा था कि वह मदुरै में जल्लीकट्ट का आयोजन करेंगे।

राज्य सरकार द्वारा अध्यादेश जारी करने के बाद पन्नीरसेल्वम ने यह घोषणा की थी। डिंडीगुल जिले में नाथम कोविलपट्टी में यह खेल आयोजित करने की कोशिश सफल नहीं हुई। पन्नीरसेल्वम यहां खेल को हरी झंडी दिखाना चाहते थे, लेकिन लोगों ने इसका विरोध किया।

मदुरै से चेन्नई लौटते समय रास्ते में मुख्यमंत्री ने कहा, “जल्लीकट्टू राज्य में विभिन्न स्थानों पर उचित तैयारी के साथ आयोजित किया जा रहा है। अलंगनल्लूर में यह तब आयोजित किया जाएगा, जब वहां के लोग चाहेंगे।” उन्होंने कहा, “जल्लीकट्टू को कोई रोक नहीं सकता।” पन्नीरसेल्वम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जल्लीकट्टू आयोजित करने में राज्य सरकार की मदद करने का वादा किया है। सरकार जल्लीकट्ट के आयोजन के लिए सोमवार को विधानसभा में एक विधेयक पेश करेगी।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT