Wednesday , October 18 2017
Home / Hyderabad News / तलबा के बस पास की शरहों में इज़ाफ़ा

तलबा के बस पास की शरहों में इज़ाफ़ा

हैदराबाद13 मई: आंध्र प्रदेश स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन ने अपने नुक्सान को कम करने के लिए जहां हालिया अर्सा में बस किरायों की शरह में ज़बरदस्त इज़ाफ़ा करके अवाम पर माली बोझ डाला था वहीं अब तलबा को बस पासेस के हुसूल में दी जाने वाली

हैदराबाद13 मई: आंध्र प्रदेश स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन ने अपने नुक्सान को कम करने के लिए जहां हालिया अर्सा में बस किरायों की शरह में ज़बरदस्त इज़ाफ़ा करके अवाम पर माली बोझ डाला था वहीं अब तलबा को बस पासेस के हुसूल में दी जाने वाली रियायतों में कमी करके तलबा के सरपरस्तों पर भी ज़बरदस्त माली बोझ डालाने के लिए अपनी तैयारीयों का आग़ाज़ करचुका है।

बताया जाता है कि रियास्ती हुकूमत ख़ुद तलबा को फ़राहम किए जाने वाले स्टूडेंटस बस पासेस की रियायतों के इव्ज़ रक़ूमात ए पी एस आर टी सी को अदा करती है लेकिन अब आर टी सी तलबा से ही बस पासेस की जुमला शरह के मिनजुमला एक तिहाई रक़म वसूल करने के इक़दामात कररही है।

सरकारी ज़राए के मुताबिक़ बताया जाता है कि तलबा को आर टी सी बस में सफ़र की सहूलत फ़राहम करने के लिए जो रियायती शरहें वसूल की जाती हैं इन शरहों (रक़ूमात) में इज़ाफ़ा करने के लिए ए पी एस आर टी सी की तरफ से रियास्ती हुकूमत को कोशिश की गई थी।

रियास्ती हुकूमत ने इस कोशिश से इत्तिफ़ाक़ करते हुए इस से मुताल्लिक़ फाईल को मंज़ूरी दे दी है। ज़राए ने बताया कि हुकूमत की इस मंज़ूरी से आर टी सी तलबा को जो रियायत फ़राहम करती थी इस में काफ़ी हद तक कमी करदी गई है।

जबके रियास्ती हुकूमत अब तक तलबा को स्टूडेंटस बस पास के लिए 90 फ़ीसद रियायत फ़राहम करके तलबा से सिर्फ़ 10 फ़ीसद रक़ूमात हासिल कररही थी लेकिन अब इस 90 फ़ीसद रियायत के बजाये 66.7 फ़ीसद रियायत ही फ़राहम करेगी।

इस तरह तलबा को अब अपने स्टूडेंट बस पास के हुसूल के लिए 33.3 फ़ीसद रक़ूमात अदा करना पड़ेगा।ज़राए के मुताबिक़ बताया जाता है कि तलबा को बस पास के लिए दी जाने वाली रियायत में कमी करने की वजह से तलबा पर जुमला 200 करोड़ रुपये का ज़ाइद माली बोझ होने का डर लाहक़ होगया है।

इस तरह ए पी एस आर टी सी अपने नुक़्सानात से बचने के लिए तलबा पर भी माली बोझ लाग‌ते हुए एक नया मसला पैदा करलेने का इरादा कररहा है।

फ़िलवक़्त बस पासेस की शरहों में इज़ाफ़ा से मुताल्लिक़ फाईल की मंज़ूरी के साथ ही आर टी सी पर इज़ाफ़ी शरहों का कोई असर मुरत्तिब नहीं होगा।

लेकिन जब इस नई शरहों पर अमल आवरी का आग़ाज़ होगा तब तलबा-ए-यूनियनों की तरफ से बड़े पैमाने पर एहतिजाज का आग़ाज़ होसकता है।

जिस से आर टी सी को नुक़्सानात से भी दो-चार होना पड़ सकता है। सरकारी ज़राए के मुताबिक़ बताया जाता है कि ए पी एस आर टी सी ने तलबा के रियायती बस पासेस की इज़ाफ़ा शरहों पर एकुम जून ( नए तालीमी साल के आग़ाज़) से अमल आवरी करने फ़ैसला किया है।

TOPPOPULARRECENT