Thursday , October 19 2017
Home / Hyderabad News / तलबीह की गूंज में आज़मीने हज्ज के पहले क़ाफ़िला की रवानगी

तलबीह की गूंज में आज़मीने हज्ज के पहले क़ाफ़िला की रवानगी

हज कमेटी के तरफ से रवाना होने वाले आज़मीने हज्ज की पहली परवाज़ तक़रीबन चार घंटे ताख़ीर के साथ मक्का मुकर्रमा के लिए रवाना हुई।

हज कमेटी के तरफ से रवाना होने वाले आज़मीने हज्ज की पहली परवाज़ तक़रीबन चार घंटे ताख़ीर के साथ मक्का मुकर्रमा के लिए रवाना हुई।

आज़मीने हज्ज का पहला क़ाफ़िला तलबीह की गूंज में हज हाउज़ से अली उल-सुबह रवाना किया गया जोके शेडूल के मुताबिक़ 11.30 बजे परवाज़ करना था लेकिन तेक्नीकी ख़राबी के बाइस 350 आज़मीन पर मुश्तमिल ये क़ाफ़िला 3 बजे के बाद
शम्सआबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट से रवाना हुव।

आज़मीन की परवाज़ में ताख़ीर की इत्तेला के साथ ही डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर मुहम्मद महमूद अली के अलावा दुसरे ज़िम्मेदार
एयरपोर्ट पहुंच गए और तैयारे की रवानगी तक एयरपोर्ट पर मौजूद रहे।

आज़मीने हज्ज को रियासती हज कमेटी की तरफ से एयरपोर्ट पर नाशतादान और ज़ुहराना फ़राहम किया गया ताके आज़मीन किसी किस्म की मुश्किलात का शिकार ना हो। सऊदी एयरलाइन्स के तैयारे से आज़मीन की रवानगी में हुई ताख़ीर की वजूहात के मुताल्लिक़ बताया जाता हैके तैयारे में टेक्नीकी ख़राबी के बाइस जेद्दाह से दूसरे तैयारे की आमद तक आज़मीन को इंतेज़ार करवाया गया।

एयरपोर्ट पर आज़मीन को रवाना करने के लिए मौजूद रहने वाले क़ाइदीन में मुहम्मद महमूद अली डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना के अलावा रुकने असेंबली बोधन मुहम्मद शकील आमिर, सनोबर पटेल सदर नशीन मध्यप्रदेश हज कमेटी-ओ-रुकन ज़ोनल मर्कज़ी हज कमेटी के अलावा स्पेशल ऑफीसर रियासती हज कमेटी प्रोफेसर एसए शकूर, सऊदी एयरलाइन्स के ज़िम्मे दारान प्रेम कुमार , ज इफ़्तिख़ार अहमद, अबदुलवाहिद,मुहम्मद मुश्ताक़, कस़्टम़्स ओहदेदार साजिद ग़ौरी , सी आई एस एफ़ ओहदेदार अनील दामोधर,भरत कामदार शेखावत , इमीग्रेशन ओहदेदार यशपाल सिंह , बीमल कुमार और रवी कुमार मौजूद थे।

क़ब्लअज़ीं आज़मीन की हज हाउज़ वाक़्ये नामपली से रवानगी के मौके पर रूह प्रवर मुनाज़िर देखे गए। आज़मीन के रिश्तेदारों ने बदीदा नम तलबीह की गूंज में अल्लाह के मेहमानों को रवाना किया। आज़मीने हज्ज की रवानगी से पहले मौलाना मुफ़्ती ख़लील अहमद शेख़ उल जामिआ जामिआ निज़ामीया ने आज़मीन से ख़िताब करते हुए उन्हें मश्वरह दिया कि वो इस अहम तरीन इबादत के दौरान ख़ुशू-ओ-ख़ुज़ू की बरक़रारी पर तवज्जा दें।

TOPPOPULARRECENT