Friday , October 20 2017
Home / Islami Duniya / तारकीन-ए-वतन को अक़ामों का मौक़िफ़ दुरुस्त करने की हिदायत

तारकीन-ए-वतन को अक़ामों का मौक़िफ़ दुरुस्त करने की हिदायत

जद्दा, 09 अप्रैल: (एजेंसीज़) सऊदी अरब के वज़ीर मेहनत आदिल फ़िक़ही ने तमाम बैरूनी तारकीन-ए-वतन पर ज़ोर दिया है कि वो ख़ादिम उल‍ हरमैन शरीफ़ैन शाह अबदुल्लाह की तरफ़ से दी गई तीन माह की मोहलत से इस्तेफ़ादा करते हुए अपने अक़ामो के मौक़िफ़ की इस्ल

जद्दा, 09 अप्रैल: (एजेंसीज़) सऊदी अरब के वज़ीर मेहनत आदिल फ़िक़ही ने तमाम बैरूनी तारकीन-ए-वतन पर ज़ोर दिया है कि वो ख़ादिम उल‍ हरमैन शरीफ़ैन शाह अबदुल्लाह की तरफ़ से दी गई तीन माह की मोहलत से इस्तेफ़ादा करते हुए अपने अक़ामो के मौक़िफ़ की इस्लाह कर लें।

उन्होंने कहा कि ममलकत में काम करने के लिए संजीदा तारकीन-ए-वतन के लिए ये बेहतर मौक़ा है, लेकिन एक कफ़ील का इकामा रखते हुए दूसरे कफ़ील के पास काम करने या ख़ुद अपना कारोबार करने का कोई जवाज़ नहीं होता। मिस्टर आदिल फ़क़ीही ने कहा कि उनकी वज़ारत तमाम बैरूनी तारकीन-ए-वतन को अपने अक़ामे और मौक़िफ़ दुरुस्त करने के अमल में मुम्किना मदद-ओ-सहूलत फ़राहम करेगी।

उन्होंने तमाम अफ़राद से ख़ाहिश की कि मुल्क के मुफ़ाद और लेबर मार्केट के तहफ़्फ़ुज़ के लिए तआवुन करें। कई तारकीन-ए-वतन महिज़ अपनी निजी वजूहात या ऐसे कफ़ीलों के मसाइल के सबब अपने अक़ामों की तजदीद नहीं किए हैं जो नताका पालिसी के तहत सुर्ख़ या ज़र्द ज़मुरा में शामिल हो गए हैं।

मिस्टर आदिल फ़िक़ही ने कहा कि शाह अबदुल्लाह ने तारकीन-ए-वतन को अक़ामों की तजदीद और मुताल्लिक़ा कफ़ीलों के पास तहवील के लिए मोहलत दी है जिस से सब्ज़ और प्लेटीनम ज़मुरा के कफ़ीलों को राहत मिलेगी और वो मुक़र्ररा तादाद में सऊदी शहरीयों को मुलाज़मत फ़राहम करने वाले ज़र्द-ओ-सुर्ख़ ज़मरों की कंपनीयों से निकलने वाले बैरूनी वर्कर्स को अपनी कंपनीयों में मुलाज़मत दे सकते हैं, जिस से उन्हें बैरूनी भरतीयों से होने वाले मसारिफ़ से बचने का मौक़ा फ़राहम होगा।

वज़ीर ए मेहनत ने कहा कि अक़ामों की इस्लाह की मुहिम से सऊदियों को रोज़गार के मज़ीद मवाक़े फ़राहम होंगे क्योंकि ज़र्द और सुर्ख़ ज़मुरा की कंपनीयां अपने मौक़िफ़ को दुरुस्त करने की कोशिश के तौर पर मुक़र्ररा तादाद में सऊदियों को मुलाज़मत देंगे।

शराइत की पाबंदी में नाकाम कंपनीयों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की सूरत में सऊदियों को मज़ीद छोटी और मुतवस्सित कंपनीयां खोलने का मौक़ा भी मिलेगा जिस में उन्होंने गै़रक़ानूनी कारोबार से कोई मुसाबक़त का सामना नहीं रहेगा।

मिस्टर आदिल फ़क़ही ने मज़ीद कहा कि बैरूनी तारकेन बख़ूबी जानते हैं ‍ कि उनकी ग़लती क्या है चुनांचे वो अपनी ग़लती को दुबारा बयान करने की कोशिश ना करें बल्कि उसकी इस्लाह करें। गै़रक़ानूनी वर्कर्स के ख़िलाफ़ मुहिम में पुलिस महकमा लेबर के ओहदेदारों से तआवुन कर रही है। मिस्टर आदिल फ़क़ीही ने कहा कि ममलकत की तामीर-ओ-तरक़्क़ी में बैरूनी वर्कर्स की ख़िदमात और रोल का सऊदी अरब एतराफ़ करता है लेकिन इसके साथ ये भी ज़रूरी है कि वो इस मुल्क के क़ानून की पाबंदी करें।

TOPPOPULARRECENT