Sunday , October 22 2017
Home / Khaas Khabar / तालीमी शोबे में मुसालमानें की दिलचस्पी के समर आवर नताइज

तालीमी शोबे में मुसालमानें की दिलचस्पी के समर आवर नताइज

एमसेट में रैंक लाने के बाद दाख़िले के लिए बेचैन तलबा और सरपरस्तों को रहनुमाई के लिए और कौंसलिंग के तरीका-ए-कार बताने के लिए सियासत कौंसलिंग प्रोग्राम निहायत मुफ़ीद साबित होता है।

एमसेट में रैंक लाने के बाद दाख़िले के लिए बेचैन तलबा और सरपरस्तों को रहनुमाई के लिए और कौंसलिंग के तरीका-ए-कार बताने के लिए सियासत कौंसलिंग प्रोग्राम निहायत मुफ़ीद साबित होता है।

मुस्लमान तालीमी शोबे में दिलचस्पी बढ़ा रहे हैं जिस के बेहतर नताइज बरामद होते हैं। इन ख़्यालात का इज़हार ज़ाहिद अली ख़ां एडीटर सियासत ने रॉयल रीजनसी गार्डन आसिफ़नगर में एमसेट परी कौंसलिंग सेशन को मुख़ातिब करते हुए किया और कहा कि मुस्लिम तबक़ा में लड़कों से ज़्यादा लड़कीयां पढ़ रही हैं।

वालिदैन अपने बच्चों को भी पढ़ाऐं , सिर्फ़ डाक्टर , इंजीनियर बनाने के बजाये दुसरे प्रोफेशनल कोर्सेस में भी दाख़िले की कोशिश् करें। मुस्लिम नौजवान तबक़ा का हिंदुस्तानी फ़ौज आर्मी , नेवी , सी आर पी एफ़ की तरफ़ तवज्जा दें अगर शॉर्ट सर्विस के तहत महिकमा दिफ़ा में अगर मुलाज़मत हासिल करें तो दस साला सर्विस के बाद उन्हें एक्स सर्विस मैन फ़हरिस्त में शामिल किया जाता है और तहफ़्फुज़ात के ज़मुरा में तालीम और मुलाज़मत के मवाक़े मिलते हैं।

ज़ाहिद अली ख़ां ने सिलसिला तक़रीर जारी रखते हुए कहा कि इदारा सियासत मिल्लत के फ़लाही कामों में सरगर्म अमल है और किसी भी किस्म की कौंसलिंग के लिए दफ़्तर सियासत से रुजू होने का मश्वरा दिया। एमसेट के रैंक के बाद किस कोर्स में किस रैंक पर दाख़िले मिलेगा इस के लिए तलबा को कौंसलिंग में शरीक होना चाहीए अगर कोई कौंसलिंग के ज़रीये दाख़िले हासिल करता है तो उन्हें मुराआत फ़ीस रेिंबर्समेंट स्कीम से इस्फ़ातेदा की सहूलत होती है।

उन्होंने रॉयल रीजनसी इंतेज़ामीया के तआवुन पर फ़ैसल बिन अली से इज़हार-ए-तशक्कुर किया और कहा कि वो आई ए एस , आई पी एस , एन डी ए के लिए मुस्लिम तलबा को तैयारी का मिशन चला रहे हैं। शहर के अलावा अज़ला के तलबा इदारा सियासत से रुजू होरहे हैं।

अहमद बशीरुद्दीन फ़ारूक़ी ने एमसेट ( इंजीनीयरिंग / मैडीसन ) के मुख़्तलिफ़ कोर्सेस की तफ़सीलात पेश की। कैरियर कौंसिलर एम ए हमीद ने कौंसलिंग किया है इस में किस तरह शिरकत करें , कौनसे सरटीफ़ीकेट ज़रूरी है। किस रैंक पर किस में दाख़िले मिलेगा।तेलंगाना और ए पी एमसेट में होने वाली तबदीलीयों के हवाले से हर तालिब-ए-इल्म को उनके शकूक-ओ-शुबहात दूर करते हुए इतमीनान बख़श अंदाज़ में मालूमात फ़राहम की और सवालात के जवाबात दीए। मंज़ूर अहमद , और ख़्वाजा अली शुऐब ने भी रहनुमाई की । प्रोग्राम के इनइक़ाद में अबदुलग़फ़्फ़ार , मुहम्मद जावेद , सीमा , हाजी अबदुलकरीम ने हिसा लिया।

अबदुर्रहमान की क़िरात से आग़ाज़ हुआ और आख़िर में एम ए हमीद ने शुक्रिया अदा क्या। इस के बाद कौंसलिंग शेडूल से तमाम तलबा को वाक़िफ़ करवाते हुए रहनुमाई की गई। सियासत एमसेट कौंसलिंग में ज़ाइद अज़ 5 हज़ार तलबा और सरपरस्तों की रिकार्ड तादाद ने शिरकत की।

TOPPOPULARRECENT