Friday , October 20 2017
Home / Khaas Khabar / तीन तलाक से मुस्लिम महिलाओं के जीवन को बर्बाद होने नहीं दिया जाएगा:प्रधानमंत्री

तीन तलाक से मुस्लिम महिलाओं के जीवन को बर्बाद होने नहीं दिया जाएगा:प्रधानमंत्री

महोबा 25 अक्टूबर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन तलाक के मुद्दे पर जारी बहस में शामिल होते हुए मुसलमानों में इस प्रक्रिया का विरोध किया और उसी सांस में उन्होंने हिन्दू समाज में लड़कियों के जन्म को रोकने के लिए मादर रहम में ही लड़कियों की हत्या विधि की निंदा भी की।

नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र में ‘महा प्रियवरतन’ रैली को संबोधित करते हुए कहा कि ” लड़कियों को माकबल जन्म हत्या करना पाप है। चाहे उसका पाप हिन्दू ही क्यों न हो। इस प्रक्रिया को रोकने के लिए मेरी सरकार कई इक़दामात की है। माताओं, बहनों और बेटियों का संरक्षण किया जाना चाहिए। किसी को इस धर्म के आधार पर नहीं देखा जाना चाहिए।

माताओं और बहनों का सम्मान किया जाना चाहिए। हम इस समस्या को सख्ती के साथ उठाया है। मोदी ने कहा कि ” अब तलाक का मुद्दा उठा है जिस तरह कोई हिंदू किसी बेटी पैदा होने से पहले मारने पर जेल जाना होगा। इस तरह मेरी मुस्लिम बहनों ने आखिर क्या अपराध किया है जिन्हें कोई फोन पर तलाक कह देता है तो उसकी सारी जिंदगी बर्बाद हो जाती है। ” प्रधानमंत्री मोदी ने टेलीविजन चैनलों पर जोर दिया की वह तीन तलाक की समस्या को हिंदू और मुसलमानों के बीच या फिर भाजपा या अन्य दलों के बीच कोई समस्या न करें। केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किए गए अपने हलफनामे में स्पष्ट तौर पर कहा है कि महिलाओं पर बहरसूरत कोई अन्याय नहीं होना चाहिए और धर्म के आधार पर उनके साथ कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए।

उन्होंने कहा, ”लोकतंत्र में किसी मसले पर बातचीत और बहस होनी चाहिए। सरकार भी इस मुद्दे पर अपना मौकुफ़ पेश कर चुकी है। जो लोग तीन तलाक के समर्थक हैं देश में जनता को उकसा रहे हैं लेकिन मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक से तबाह हो जाने की अनुमति नहीं दी जा सकती।

‘प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में प्रतिभागियों जलसे से सवाल किया कि क्या मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों की रक्षा की जानी चाहिए या नहीं? और क्या उन्हें मसावीाना अधिकार दिए जाएं या नहीं? मोदी ने कहा कि ” मुझे आश्चर्य है कि कुछ राजनीतिक दल महज वोटों की वासना और लालच के कारण 21 वीं सदी में भी महिलाओं के साथ अन्याय पर अड़े हैं। यह कैसा न्याय है? ”।

उन्होंने कहा कि राजनीति और चुनाव अपनी जगह लेकिन मुस्लिम महिलाओं को संविधान के अनुसार अधिकार दिलाने देश की जनता और सरकार की जिम्मेदारी होती है। ” प्रधानमंत्री ने मीडिया पर आग्रह किया कि वह तीन तलाक के मुद्दे को सरकार और विपक्ष के बीच कोई मसयह न करें।

”मुस्लिम समुदाय के विद्वानों के बीच इस मसले पर विचार-चर्चा होनी चाहिए। मुस्लिम समुदाय में जानकारी युक्त प्रगतिशील लोग हैं। तालीमयाफ्ता मुस्लिम महिलाएं भी हैं जो इस समस्या पर अपने विचार प्रदान कर सकती हैं।

”उन्होंने कहा कि ”टीवी पर जब आप बहस करते हैं तो इसे हिंदू और मुसलमानों के बीच कोई समस्या में तब्दील न हो। ‘ उन्होंने कहा कि चर्चा उनके बीच होना चाहिए जो मुस्लिम समाज में बदलाव चाहते हैं और जो नहीं चाहते कि 125 करोड़ भारतीयों को यह पता चले आख़िर तीन तलाक़ का समस्या क्या है।

TOPPOPULARRECENT