Sunday , October 22 2017
Home / India / तीसरे महाज़ में कई क़ाइदीन वज़ीर-ए-आज़म के ओहदे के अहल: बर्धन

तीसरे महाज़ में कई क़ाइदीन वज़ीर-ए-आज़म के ओहदे के अहल: बर्धन

सी पी आई क़ाइद ए बी बर्धन ने कहा कि आम इंतेख़ाबात के बाद मुल्क में गैरकांग्रेसी और गैर बी जे पी सियासी जमातों के लिए हुकूमत साज़ी की गुंजाइश मौजूद है कहा कि मुल्क में 11 जमातों के चीफ मिनिस्टर्स इस मसले पर मुत्तफ़िक़ हैं कि लोक सभा इंत

सी पी आई क़ाइद ए बी बर्धन ने कहा कि आम इंतेख़ाबात के बाद मुल्क में गैरकांग्रेसी और गैर बी जे पी सियासी जमातों के लिए हुकूमत साज़ी की गुंजाइश मौजूद है कहा कि मुल्क में 11 जमातों के चीफ मिनिस्टर्स इस मसले पर मुत्तफ़िक़ हैं कि लोक सभा इंतेख़ाबात के बाद तीसरा महाज़ ही दोनों जमातों का मुतबादिल बनेगा।

उन्होंने कहा कि लोक सभा इंतेख़ाबात में अक्सरियत हासिल होजाने की सूरत में हम में से कई एसे हैं जो इस ओहदे के अहल हैं , सिर्फ़ बी जे पी के चीफ मिनिस्टर ही विज़राते उज़्मा के ओहदा केलिए मौज़ूं नहीं है। जब उन से पूछा गया कि क्या गैर बी जे पी और गैर कांग्रेसी महाज़ में आम आदमी पार्टी को भी शामिल किया जा सकता है तो साबिक़ सी पी आई जनरल सैक्रेटरी ने कहा कि यक़ीनन एसा होसकता है क्योंकी वो भी कांग्रेस और बी जे पी दोनों के मुख़ालिफ़ हैं।

इस हवाले से क़तई फैसला करना आम आदमी पार्टी की ज़िम्मेदारी है। बी जे पी की जानिब से विज़ारत-ए-उज़मा के लिए क़ब्ल अज़ वक़्त मोदी के नाम को क़तईयत देने के फैसले पर तन्क़ीद करते हुए बर्धन ने कहा कि हिन्दुस्तानी दस्तूर में विज़ारत-ए-उज़मा के लिए वेटिंग प्राइम मिनिस्टर का कोई तसव्वुर नहीं है। नरेंद्र मोदी की शख्सियत पर तन्क़ीद करते हुए उन्होंने कहा कि 2002 में पेश आए फ़सादात‌ में मोदी के किरदार को कोई भी फ़रामोश नहीं कर सकता।

TOPPOPULARRECENT