Saturday , October 21 2017
Home / Crime / तुर्की: शरणार्थी बच्चों पर यौन हिंसा के दोषी को 108 साल की कैद

तुर्की: शरणार्थी बच्चों पर यौन हिंसा के दोषी को 108 साल की कैद

बर्लिन: तुर्की एक स्थानीय अदालत ने सीरियाई शरणार्थियों के एक शिविर में स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करने वाले दरिन्दा सिफत एक स्थानीय व्यक्ति को कम से कम 8 बच्चों को यौन हिंसा का निशाना बनाए जाने के अपराध में 108 साल कैद की सजा का आदेश दिया है ।

तुर्की मीडिया के अनुसार अपराधी शरणार्थी बच्चों की गरीबी और उनके अन्य कठिनाइयों का लाभ उठाते हुए उन्हें यौन उत्पीड़न के लिए ब्लैकमेल किया और उन्हें सेक्स वासना पर आमादा करने के लिए डेढ़ से पांच तुर्क  लीरे [आधे से पौने दो डॉलर] के बराबर रकम उन्हें यौन क्रिया के लिए तैयार करने की नापाक कोशिश की जाती रही है।

समाचार एजेंसी ‘दोगान’ ‘के अनुसार बच्चों के यौन उत्पीड़न का बुरा घटना सीरिया और तुर्की की सीमा पर स्थापित’ ‘नसेब” पनाह शरणार्थी शिविर में हुई। इस बात का खुलासा तब हुआ जब यौन हिंसा का निशाना बनाए जाने वाले बच्चों के माता-पिता ने अधिकारियों को इसकी शिकायत की। स्थानीय मीडिया और सामाजिक कार्यकर्ताओं का मानना है कि सजा पाने वाले दरिन्दा तुर्क व्यक्ति ने कम से कम 30 बच्चों को यौन उत्पीड़न के लिए ब्लैकमेल किया है मगर उन में से केवल आठ बच्चों के माता-पिता ने शिकायत दर्ज कराई जबकि दूसरे लोग कारणों की वजह चुप हैं।

सीरियाई शरणार्थियों के कल्याण के लिए सक्रिय एजेंसी का कहना है कि बच्चों को यौन उत्पीड़न में संलिप्त व्यक्ति को निवारक का निशान बनाने के प्रयास जारी हैं ताकि अगले व्यक्ति ऐसी दरिंदगी की हिम्मत न कर सके।

गौरतलब है कि यह पहला मौका है जब तुर्की में किसी व्यक्ति को बच्चों के साथ बलात्कार के मामले में पकड़ा गया है, हालांकि मानवाधिकार संगठन कई बार आगाह कर चुकी हैं कि सीरियाई शरणार्थी बच्चों और महिलाओं को यौन उत्पीड़न का निशाना बनाए जाने की आशंका है।

याद रहे कि तुर्की में स्थित 27 लाख सीरियाई शरणार्थियों में 2 लाख 50 हजार लोग शिविरों में रह रहे हैं। नसीब शरणार्थी शिविर में रह रहे सीरियाई शरणार्थियों की संख्या 11 हजार बताई जाती है।

TOPPOPULARRECENT