Sunday , October 22 2017
Home / Hyderabad News / तेलंगाना बिल दस्तूर के वफ़ाक़ी क़दर के खिलाफ:वसंत कुमार

तेलंगाना बिल दस्तूर के वफ़ाक़ी क़दर के खिलाफ:वसंत कुमार

रियासती वज़ीर सयाहत वटी वसंत कुमार ने आज एवान असेंबली में अलाहिदा रियासत मुसव्वदा बिल पर मुबाहिस में हिस्सा लेते हुए तजवीज़ पेश की कि असेंबली में तेलंगाना मुसव्वदा बिल पर जामि मुबाहिस के बाद मर्कज़ को मुत्तहदा आंध्र प्रदेश की ताईद

रियासती वज़ीर सयाहत वटी वसंत कुमार ने आज एवान असेंबली में अलाहिदा रियासत मुसव्वदा बिल पर मुबाहिस में हिस्सा लेते हुए तजवीज़ पेश की कि असेंबली में तेलंगाना मुसव्वदा बिल पर जामि मुबाहिस के बाद मर्कज़ को मुत्तहदा आंध्र प्रदेश की ताईद में क़रारदाद रवाना करनी चाहीए।

मुसव्वदा तेलंगाना बिल पर अपनी गैर मुख़्ततम बेहस को आज जारी रखते हुए वसंत कुमार ने कहा कि तेलंगाना बिल आमिराना है और दस्तूर के वफ़ाक़ी जज़बा के खिलाफ है।

उन्होंने कहा कि नई रियासतों किसी तशकील की वाज़िह पॉलीसी इख़तियार किए बगैर लिसानी असास पर क़ायम रियासत की तक़सीम से मुताल्लिक़ मर्कज़ का फैसला नामुनासिब है।

उन्होंने कहा कि मर्कज़ का फैसला अदालत में उखड़ जाएगा। उन्होंने इस्तिफ़सार किया कि किस तरह मर्कज़ी काबीना एक रियासत की तक़सीम का बाजलत सियासी फैसला करसकती है? उन्होंने कहा कि मर्कज़ ने बिल के मवाद का मुताला करने की मोहलत देने सीमांध्र के मर्कज़ी वुज़रा की दरख़ास्त पर भी ग़ौर नहीं की।

हैदराबाद के साथ सीमांध्र के अवाम के लागव‌ का हवाला देते हुए वज़ीर ने कहा कि राइलसिमा और साहिली आंध्र के अवाम भी तेलंगाना अवाम की तरह जज़बात रखते हैं।

उन्होंने इद्दिआ किया कि सीमांध्र के अवाम और सनअतकारों ने पिछ्ले 50 बरसों में हैदराबाद की तरक़्क़ी में अपना ज़बरदस्त हिस्सा अदा किया।

उन्होंने इस्तिफ़सार किया कि आया मर्कज़ के लिए जो मआशी बोहरान से दो-चार है, ये मुम्किन होगा कि बाक़ी रह जाने वाली आंध्र प्रदेश रियासत के लिए हैदराबाद की तर्ज़ पर एक सदर मुक़ाम फ़रोग़ दे? आया मर्कज़ आंध्र प्रदेश रियासत में इंफ्रास्ट्रक्चर फ़रोग़ के लिए भारी पैकेज का एलान करने के मौक़िफ़ में है?

ये याद दिलाते हुए कि इक़तिसादी सरगर्मियां और सनातकारी हैदराबाद के अतराफ़ मर्कूज़ रही। वज़ीर सयाहत ने निशानदेही की के बड़ी सनअतें एन एम डी सी, बी एच्च ई एल, एच्च ए एल, मधानी, आई डी पी एल, आई डी एल, डी आर डी ए और क़ौमी सतह के तालीमी इदारे जैसे आई आई टी, आई आई आई टी, आई एस बी, यूनीवर्सिटी आफ़ हैदराबाद, सी सी एम बी और आई आई सी टी शहर और इस के अतराफ़ क़ायम किए गए। रियासत तक़सीम करदेने की सूरत में सीमांध्र के अवाम मवाक़े खोदेंगे। उन्होंने हैरत का इज़हार किया कि जस्टिस सिरी कृष्णा कमेटी की पांचवीं सिफ़ारिश का ही क्यों इंतिख़ाब किया?

TOPPOPULARRECENT