Monday , September 25 2017
Home / Hyderabad News / तेलंगाना में चंद अज़ला की तशकील, सस्ती शराब पालिसी तर्क

तेलंगाना में चंद अज़ला की तशकील, सस्ती शराब पालिसी तर्क

हैदराबाद 03 सितंबर:तेलंगाना काबीना ने रियासत में चंद अज़ला के क़ियाम का फ़ैसला किया है। चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ ने काबीना के मीटिंग के बाद ये बात बताई।

तेलंगाना की पिछ्ले साल तक़सीम-ए-अमल में आई और इस रियासत में जुमला 10 अज़ला बिशमोल हैदराबाद हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव वादे को पूरा करते हुए रियासती काबीना ने फ़ैसला किया हैके मज़ीद चंद अज़ला का क़ियाम अमल में लाया जाये।

चीफ़ सेक्रेटरी की ज़ेर क़ियादत एक कमेटी क़ायम की जा रही है जो इस ज़िमन में सिफ़ारिशात पेश करेगी। उन्होंने कहा कि हर ज़िला में औसतन आबादी 19 लाख है लेकिन तेलंगाना में आबादी का ये औसत 35लाख हो चुका है जिसकी वजह से नए अज़ला का क़ियाम ज़रूरी है।

काबीना ने एक और अहम फ़ैसला किया है कि सस्ती शराब की पालिसी को जारीया साल नाफ़िज़ ना किया जाये। काबीना के चार घंटे तवील मीटिंग में कई दुसरे फ़ैसले भी किए गए।के चन्द्रशेखर राव‌ ने कहा कि तेलंगाना की आबी पालिसी को बहुत जल्द क़तईयत दी जाएगी।

इस के अलावा ग़रीब अवाम को हसब वादा डबल बेडरूम फ़्लैट तामीर करने के लिए 390 करोड़ रुपये मंज़ूर किए गए हैं। पहले मरहले के तहत 60 हज़ार डबल बेडरूम फ्लैट्स तामीर किए जाऐंगे।

हर एक फ़्लैट 560 मुरब्बा फ़ीट पर मुश्तमिल होगा। उन्होंने बताया कि देही इलाक़ों में 5.04 लाख रुपये और शहरी इलाक़ों में 5.30 लाख रुपये के मसारिफ़ से ये फ़्लैट तामीर किया जाएगा।

चीफ़ मिनिस्टर ने बताया कि साबिक़ा दौरे हुकूमत में मकानात की तामीर में बड़े पैमाने पर बेक़ाईदगियों के वाक़ियात पेश आए जिसकी वजह से साबिक़ा मनज़ोरा मकानात के लिए रक़ूमात की इजराई रोक दी गई थी लेकिन अब हुकूमत ने ज़िला कलेक्टरस को हिदायत दी हैके अहल और हक़ीक़ी अफ़राद को मनज़ोरा रक़ूमात जारी करें।

चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ ने तेलंगाना स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन को मुस्तहकम बनाने और ख़सारा कम करने के लिए इक़दामात का भी यकीन दिया।

उन्होंने बताया कि सिर्फ शहरे हैदराबाद में चलाई जाने वाली आर टी सी बसों को सालाना 218 करोड़ रुपये का ख़सारा हो रहा है। उन्होंने बताया कि काबीना ने अज़ला निज़ाम आबाद, क्रीमनगर और महबूबनगर में एग्रीकल्चर पॉलीटेक्निक कॉलेजस के क़ियाम को मंज़ूरी दी है। उन्होंने अप्पोज़ीशन जमातों से ये अपील की कि वो तन्क़ीदों के बजाउए तामीरी रविष इख़तियार करें।

TOPPOPULARRECENT