Monday , October 23 2017
Home / India / तेलंगाना सर्वे पर गवर्नर नरसिम्हन की दिल्ली में राज नाथ सिंह से बातचीत

तेलंगाना सर्वे पर गवर्नर नरसिम्हन की दिल्ली में राज नाथ सिंह से बातचीत

तेलंगाना में किए गए जामि घरेलू सर्वे पर पैदा शूदा तनाज़ा के दरमयान गवर्नर ई एस एल नरसिम्हन ने नई दिल्ली पहुंच कर मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला राज नाथ सिंह से मुलाक़ात की और रियासत तेलंगाना खास्कर हैदराबाद की सूरते हाल से वाक़िफ़ करवाया।

तेलंगाना में किए गए जामि घरेलू सर्वे पर पैदा शूदा तनाज़ा के दरमयान गवर्नर ई एस एल नरसिम्हन ने नई दिल्ली पहुंच कर मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला राज नाथ सिंह से मुलाक़ात की और रियासत तेलंगाना खास्कर हैदराबाद की सूरते हाल से वाक़िफ़ करवाया।

सरकारी ज़राए ने कहा कि नरसिम्हन ने राज नाथ सिंह को तेलंगाना में अमन-ओ-क़ानून की सूरते हाल और नई रियासत में आबाद तख़मीनन 84 लाख ख़ानदानों के बारे में पिछ्ले रोज़ किए गए जामि घरेलू सर्वे पर अवाम में पैदा शूदा अंदेशों को दूर करने के लिए हुकूमत की तरफ़ से किए गए इक़दामात से बाख़बर किया।

सरकारी ज़राए ने कहा कि मर्कज़ इस मसले से बाख़बर है और सर्वे के इनइक़ाद से पैदा शूदा सूरते हाल पर कड़ी नज़र रखी हुई है क्युंकि इस (सर्वे) से सीमांध्र नज़ाद अवाम में शकूक-ओ-शुबहात बढ़ गए हैं।

ज़राए ने कहा कि मर्कज़ी हुकूमत तवक़्क़ो करती हैके तेलंगाना हैदराबाद में जहां ज़बरदस्त ( इलाक़ाई/ सियासी) कशीदगी है सूरते हाल पुर सुकून होजाएगी और कोई पुरतशद्दुद वाक़िया पेश नहीं आएगा। लेकिन अगर ज़रूरत हो तो मर्कज़ मुदाख़िलत भी करसकता है।

ज़राए ने कहा कि नरसिम्हन और राज नाथ सिंह ने 20 मिनट की मुलाक़ात के दौरान हैदराबाद में अमन-ओ-क़ानून की सूरते हाल पर गवर्नर को दिए जाने वाले ख़ुसूसी इख़्तयारात से मुताल्लिक़ मर्कज़ी हुकूमत के अहकाम को क़बूल करने से हुकूमत तेलंगाना के इनकार के मसले पर तबादला-ए-ख़्याल किया गया।

ताहम गवर्नर और मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला ने उन मसाइल पर मर्कज़ और हुकूमत तेलंगाना के दरमयान किसी तसादुम से गुरेज़ के रास्तों पर भी ग़ौर वख़ोज़ि किया। वाज़िह रहे के तेलंगाना के चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ ने हैदराबाद में अमन-ओ-क़ानून की सूरते हाल पर गवर्नर को ख़ुसूसी इख़्तयारात की फ़राहमी से मुताल्लिक़ मर्कज़ी हुकूमत के अहकामात को फ़ाशिस्ट क़रार देते हुए वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी को एक मकतूब रवाना किया था जिस में इन अहकाम को कुलअदम करने की दरख़ास्त की गई थी।

TOPPOPULARRECENT