Tuesday , October 17 2017
Home / Hyderabad News / तेलगुदेशम के मुस्लिम डिक्लेरेशन से कांग्रेस बौखलाहट का शिकार

तेलगुदेशम के मुस्लिम डिक्लेरेशन से कांग्रेस बौखलाहट का शिकार

हैदराबाद ०७ अक्तूबर (सियासत न्यूज़) सदर हैदराबाद सिटी तेलगुदेशम अक़ल्लीयती सेल मुहम्मद शहबाज़ अहमद ख़ां ने कहा कि तेलगुदेशम पार्टी के मुस्लिम डिक्लेरेशन से कांग्रेस पार्टी बौखलाहट का शिकार होगई ही। सदर प्रदेश कांग्रेस बी सत्

हैदराबाद ०७ अक्तूबर (सियासत न्यूज़) सदर हैदराबाद सिटी तेलगुदेशम अक़ल्लीयती सेल मुहम्मद शहबाज़ अहमद ख़ां ने कहा कि तेलगुदेशम पार्टी के मुस्लिम डिक्लेरेशन से कांग्रेस पार्टी बौखलाहट का शिकार होगई ही। सदर प्रदेश कांग्रेस बी सत्य ना रावना और सदर कांग्रेस अक़ल्लीयती सेल मुहम्मद सिराज उद्दीन के पैरों तले ज़मीन खिसक चुकी ही।

चंद्रा बाबू नायडू की पदयात्रा से कांग्रेस की उल्टी गिनती शुरू होगई है। मिस्टर शहबाज़ अहमद ख़ां ने कहा कि बी सत्य ना रावना की ख़ुद कांग्रेस में कोई एहमीयत नहीं ही, सदर प्रदेश कांग्रेस कमेटी नामज़द होकर एक साल मुकम्मल होने के बावजूद वो अपनी आमिला तशकील नहीं दे पाई। कांग्रेस हुकूमत अवामी एतिमाद से महरूम हो चुकी है, समाज का कोई तबक़ा कांग्रेस हुकूमत से ख़ुश नहीं ही। आंधरा प्रदेश में भी कांग्रेस का बिहार, उत्तरप्रदेश, मग़रिबी बंगाल, गुजरात और मध्य प्रदेश जैसी सूरत-ए-हाल से दो चार होगी। सदर तेलगुदेशम चंद्रा बाबू नायडू की पदयात्रा, बिस्तर-ए-मृग पर आख़िरी सांस लेने वाली कांग्रेस हुकूमत के ताबूत में आख़िरी कील साबित होगी।

मिस्टर शहबाज़ ख़ां ने सदर प्रदेश कांग्रेस अक़ल्लीयत डिपार्टमैंट मुहम्मद सिराज उद्दीन की जानिब से सदर तेलगुदेशम पर की गई तन्क़ीद और मुस्लिम डिक्लेरेशन को मगरमच्छ के आँसू क़रार देने की सख़्त मुज़म्मत करते हुए कहा कि मिस्टर सिराज उद्दीन कांग्रेस आक़ाओ को ख़ुश करने और ओहदा हासिल करने के लिए इस किस्म की हरकत कर रहे हैं।

इन की जानिब से गांधी भवन में मुनाक़िदा अक़ल्लीयती कनवेनशन में शहर में रह कर भी चीफ़ मिनिस्टर और सदर प्रदेश कांग्रेस ने शिरकत नहीं की, जिस से ये अंदाज़ा होता है कि हुकूमत और कांग्रेस पार्टी को अक़ल्लीयतों के साथ कितनी हमदर्दी ही। कांग्रेस हुकूमत मुस्लमानों को सिर्फ वोट बैंक के तौर पर इस्तिमाल कर रही है।

2004ए- के आम इंतिख़ाबात से क़बल चंद्रा बाबू नायडू ने अक़ल्लीयती बजट 36 करोड़ रुपय मंज़ूर किया था, मगर 60 करोड़ से ज़ाइद ख़र्च हुए थी, जब कि कांग्रेस हुकूमत 490 करोड़ का अक़ल्लीयती बजट मुख़तस कर रही है, मगर निस्फ़ बजट भी ख़र्च नहीं किया जा रहा ही। जब कि कांग्रेस हुकूमत में रियासत के मजमूई बजट में डेढ़ सौ गुना इज़ाफ़ा हुआ है।

TOPPOPULARRECENT