Sunday , October 22 2017
Home / India / तेल और गैस की क़ीमतों का ताय्युन हुकूमत के कंट्रोल से आज़ाद करने पर ग़ौर

तेल और गैस की क़ीमतों का ताय्युन हुकूमत के कंट्रोल से आज़ाद करने पर ग़ौर

टोरंटो 17 अप्रैल ( पी टी आई ) हिन्दुस्तान मुक़ामी तौर पर हासिल किए हुए तेल और क़ुदरती गैस की क़ीमतों का ताय्युन हुकूमत के कंट्रोल से आज़ाद करने पर ग़ौर कररहा है ताकि ज़्यादा तादाद में ग़ैर मुल्की सरमायाकारी की तरग़ीब दी जा सके । मर्कज़ी वज़ीर

टोरंटो 17 अप्रैल ( पी टी आई ) हिन्दुस्तान मुक़ामी तौर पर हासिल किए हुए तेल और क़ुदरती गैस की क़ीमतों का ताय्युन हुकूमत के कंट्रोल से आज़ाद करने पर ग़ौर कररहा है ताकि ज़्यादा तादाद में ग़ैर मुल्की सरमायाकारी की तरग़ीब दी जा सके । मर्कज़ी वज़ीर फाइनानस पी चिदम़्बरम ने जो ग़ैर मुल्की सरमायाकारों को तरग़ीब देने केलिए अमेरीका और कैनेडा के दौरे पर हैं कहा कि मर्कज़ी काबीना पैदावार में शराकतदारी के बजाय तेल और गैस तलाश और बरामद करनेवाली कंपनीयों के साथ मालिया में शराकतदारी के निज़ाम पर अमलावरी केलिए ग़ौर के आख़िरी मरहले में हैं ।

नए निज़ाम के तहत कंपनीयों से तेल और गैस में हुकूमत के साथ पैदावार के पहले ही दिन से शराकतदारी केलिए बोली देने की ख़ाहिश की जाएगी। जो कंपनीयां सब से ज़्यादा हिसस केलिए बोलियां देंगी उन्हें तेल और गैस तलाश करने का लाईसैंस हासिल होगा । हुकूमत को आज़म तरीन हिस्सा देने की तमानीयत हासिल होने के बाद वो गैस की क़ीमतों के ताय्युन की ज़िम्मेदारी से छिकारा हासिल करलेगी ।

चिदम़्बरम ने कहा कि हुकूमत पैदावार में शराकतदारी के बजाय तेल और गैस की तलाश के ज़रीये हासिल होने वाली मालिया में शराकतदारी के निज़ाम पर अमलावरी से गहिरी दिलचस्पी रखती है । माली ख़सारे के बारे में ग़ैर मुल्की सरमायाकारी के अंदेशों का अज़ाला करने की कोशिश करते हुए मर्कज़ी वज़ीर फाइनानस ने कहा कि हिन्दुस्तान माली ख़सारे में कमी करने का पाबंद अह्द है और 2016-17 में अपने मुक़र्ररा निशाना तीन फ़ीसद के हुसूल में कामयाब होजाएगा ।

चिदम़्बरम ने कहा कि हिन्दुस्तान मालीयाती इर्तिकाज़ की राह पर है। हिन्दुस्तान के वज़ीरे फाइनानस पी चिदम़्बरम ने ये वाज़िह कर दिया कि बाहमी सरमायाकारी तहफ़्फ़ुज़ मुआहिदा हिन्दुस्तानी क़ानूनी इदारों के दायराकार में शामिल होंगे ।हिन्दुस्तान ग़ैर मुल्की अदालतों या ट्रब्यूनलस को उनके फ़ैसले करने की इजाज़त नहीं देगा । कैनेडा। हिन्दुस्तान बिज़नस कौंसल के ज़ेर-ए-एहतिमाम नाशतादान के इजलास में चिदम़्बरम ने एक सवाल का जवाब देते हुए कहा था कि हिन्दुस्तान मुल्की अदालत को ग़ैर मुल्की अदालतों या ट्रब्यूनलस का मातहत नहीं बना सकता ।

मर्कज़ी वज़ीर फाइनानस ने पीटर सोदर लैंड सदर-ओ-सी ई ओ कैनेडा । हिन्दुस्तान बिज़नस कौंसल की ये जानने की ख़ाहिश पर कि बाहमी ग़ैर मुल्की सरमायाकारी तहफ़्फ़ुज़ मुआहिदा का क्या मौक़िफ़ होगा । चिदम़्बरम ने वाज़िह कर दिया कि सिर्फ़ हिन्दुस्तानी अदालतें किसी भी तनाज़े का फ़ैसला करने की मजाज़ होंगी और ग़ैर मुल्की अदालतों या ट्रब्यूनलस के फ़ैसलों की पाबंद नहीं होंगी ।

उन्होंने जामि मआशी शराकतदारी मुआहिदे और ग़ैर मुल्की सरमायाकारी तहफ़्फ़ुज़ मुआहिदा दोनों के अनक़रीब हक़ीक़त बिन जाने का हाज़िरीन को तीक़न दिया।वज़ीर-ए-आज़म कैनेडा स्टीफ़न हारपर के गुज़िशता साल नवंबर में हिम्न्दुस्तान के दौरा का हवाला देते हुए चिदम़्बरम ने कहा कि हिन्दुस्तान और कैनेडा देरीना बाहमी ताल्लुक़ात, जम्हूरीयत की रिवायात में शराकतदारी ,तकसीरीत , मुस्तहकम बैन-उल-अक़वामी रवाबित के कैनेडा के अवाम से मुस्तहकम ताल्लुक़ का हवाला दिया ।

TOPPOPULARRECENT