Wednesday , September 20 2017
Home / India / तोगडिय़ा ने अलगाववादियों पर साधा निशाना, कहा- देश यासीन मलिक के कहने से नहीं चलता

तोगडिय़ा ने अलगाववादियों पर साधा निशाना, कहा- देश यासीन मलिक के कहने से नहीं चलता

जयपुर : विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. प्रवीण भाई तोगडिय़ा ने देश में हो रहे हिन्दुओं के पलायन को लेकर आक्रामकता दिखाई। तोगडि़या ने कहा अब किसी भी कीमत पर हिन्दुओं का पलायन नहीं बल्कि पराक्रम होगा। तोगडिय़ा रविवार को तोतुका भवन सभागार में बजरंग दल की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के समापन पर आयोजित हिन्दु जयघोष कार्यक्रम में बोल रहे थे।

उन्होंने कश्मीर हिंसा को लेकर कश्मीर के अलगाववादियों पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कश्मीर में हिन्दुओं की कॉलोनियां बसाने की बात चली तो यासीन मलिक ने कहा कि हम ये कॉलोनियां नहीं बसने देंगे। अगर यह देश मलिक के कहने से चलता है। तो अलगाववादी कहां रहेंगे यह देश के 15 लाख बजरंग दल कार्यकर्ता तय करेंगे। 

तोगडि़या ने सरकार से मांग की कि हिन्दुओं की सुरक्षा की गारंटी दी जाए। इससे पहले विहिप के केंद्रीय संयुक्त महामंत्री सुरेंद्र जैन ने लव जेहाद करने वालों को चेताया और कहा कि अपनी बेटियों की भी चिंता करो। हिन्दु समाज को जो छेड़ेगा, उसे भारत की धरती से खदेड़ देंगे। कार्यक्रम में महामंडलेश्वर बालमुकुंदाचार्य सहित अनेक बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया।

हम रोकेंगे पलायन
उन्होंने कहा कि विहिप ने हिन्दुओं के पलायन के लिए ठोस योजना बनाई है। इसके लिए गांवों व शहर की गलियों का सर्वे करवाया जाएगा। युवाओं की टीम खड़ी की जाएगी जो लोकतांत्रिक तरीके से हिन्दुओं के पलायन को रोकने का काम करेगी। उन्होंने कहा कि भारत दुनिया का एेसा देश है, जहां बहुसंख्यक असुरक्षित हैं। हिन्दुओं का पलायन राजनीतिक प्रतिस्पद्र्धा नहीं बल्कि हिन्दुओं के ह्यूमन राइट का प्रश्न है।

पलायन की जांच के लिए इनक्वायरी कमिशन बैठाए सरकार
तोगडि़या ने केंद्र सरकार के समक्ष अपनी मांगे भी रखी। उन्होंने कहा कि हिन्दुओं का पलायन क्यों हो रहा है, सरकार इसकी जांच के लिए इन्क्वायरी कमिशन बैठाए। जिन हिन्दुओं पर दबाव डालकर उनकी संपत्तियों को सस्ती दरों पर बिकवाया गया, उन्हें मुआवजा दिलवाया जाए। साथ ही देश में समान सिविल कोड लागू किया जाना चाहिए। दो बच्चों का कानून सख्ती से लागू किया जाना चाहिए।

तो सलामत नहीं रहता एक भी घर
उन्होंने कहा कि कश्मीर में हिंसा हुई तो अमरनाथ यात्रा को रोक दिया गया। अगर हज यात्रा को रोक देते तो शायद जयपुर सहित देश में कहीं भी एक भी घर सलामत नहीं रहता। फ्रांस में हमला हुआ तो वहां के प्रधानमंत्री ने कहा कि यह इस्लामिक आतंकवाद था, लेकिन हमारे यहां एेसा कहने में नानी मर जाती है।

3100 के खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज हो
कश्मीर हिंसा को लेकर तोगडि़या ने शब्द बाण चलाए। उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी एजेंट बनकर सेना व पुलिस पर हमले किए जा रहे हैं। 38 के मरने पर छातियां कूटी जा रही है। लेकिन पिछले 25 साल में 5 हजार से ज्यादा पुलिस व सेना के जवान मारे गए, उनके लिए कोई रोने वाला नहीं है। उन्होंने मांग की कि इस हिंसा में घायल होकर जो 3100 लोग अस्पताल पहुंचे हैं, उनके खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज होना चाहिए। 

आतंकवादियों की समर्थक कश्मीर में सीएम
कश्मीर की सीएम महबूबा को निशाने पर लेते हुए तोगडि़या ने कहा कि कश्मीर में आतंकियों की समर्थक सीएम बनी हुई है। सेना व पुलिस पर हमला करने वालों को वे ईदी दे रही है। अगर उनमें आतंकवादियों को रोकने की हिम्मत नहीं तो उन्हें घर बैठाकर भी यह काम किया जा सकता है। जो सेना व पुलिस के समर्थन में नहीं आए, वे गद्दार हैं उन्होंने पूरे देशवासियों को कश्मीर सेना व पुलिस के समर्थन में खड़ा होने का आह्वान किया। 

उन्होंने किया जो एेसा नहीं करता है वह गद्दार और पाकिस्तानी है। जो सेना पर हमला कर रहे हैं, उन्हें सहानुभूति देने वाले भी पाकिस्तानी व गद्दार हैं। कश्मीर में इस तरह की गतिविधियों को रोकने के लिए धारा 370 को हटाना होगा।

TOPPOPULARRECENT