Sunday , August 20 2017
Home / Khaas Khabar / त्यूनस की चार शहरी तंज़ीममो को नोबल अमन इनाम

त्यूनस की चार शहरी तंज़ीममो को नोबल अमन इनाम

Members of Tunisia's National Dialogue Quartet, President of the Tunisian Human Rights League Abdessattar ben Moussa, President of the Tunisian employers union Wided Bouchamaoui, Secretary General of the Tunisian General Labour Union Houcine Abassi and president of the National Bar Association Mohamed Fadhel Mahmoud (L-R) look on as Tunisia's President Moncef Marzouki (far L) addresses the National Conference for Dialogue in Tunis in this October 5, 2013 file photo. Tunisia's National Dialogue Quartet won the Nobel Peace Prize on Friday for its contribution to building democracy after the Jasmine Revolution in 2011, the Nobel Committee announced on October 9, 2015. The National Dialogue Quartet is formed by four organizations of Tunisian civil society, the Tunisian General Labour Union, the Tunisian Confederation of Industry, Trade and Handicrafts, the Tunisian Human Rights League, and the Tunisian Order of Lawyers. REUTERS/Zoubeir Souissi/Files

नार्वे की नोबल अमन कमेटी ने ग़ैर मुतवक़्क़े तौर पर त्यूनस के क़ौमी मुज़ाकराती अमल के चार फ़रीक़ों को मुल्क में इन्क़िलाब के बाद जम्हूरीयत के क़ियाम के लिए जद्दो जहद पर इस साल के नोबल अमन इनाम का हक़दार क़रार दिया है।

नोबल कमेटी ने अपने ऐलान में कहा है कि चार फ्रीकी क़ौमी डायलॉग को त्यूनस में सन 2011 के यासमीन इन्क़िलाब के बाद मुसबत जम्हूरीयत के क़ियाम में फ़ैसलाकुन किरदार पर अवार्ड दिया जा रहा है।

इन चार तन्ज़ीमों में त्यूनस की जेनरल यूनीयन बराए मज़दोरां (यू जी टी टी), त्यूनसी यूनीयन बराए सनअत वतजारत (सरमाया कारों की यूनीयन) ,त्यूनसी लीग बराए दिफ़ा इन्सानी हुक़ूक़ और त्यूनसी यूनीयन बराए वुकला शामिल हैं।

नोबल कमेटी के बयान में कहा गया है कि ये चार फ्रीकी इत्तिहाद सन 2013 के मौसमे गर्मा में क़ायम किया गया था। उस वक़्त सियासी क़त्ल और बड़े पैमाने पर बदअमनी की वजह से जम्हूरी अमल ख़तरात से दोचार था। उस ने ऐसे वक़्त में एक मुतबादिल और पुरअमन जम्हूरी अमल शुरू किया था जब मुल़्क ख़ानाजंगी के दहाने पर खड़ा था।

TOPPOPULARRECENT