Thursday , September 21 2017
Home / Khaas Khabar / तक़र्रुत में मुस्लिम उम्मीदवारों के साथ मुकम्मिल इन्साफ़ करने की हिदायत

तक़र्रुत में मुस्लिम उम्मीदवारों के साथ मुकम्मिल इन्साफ़ करने की हिदायत

हैदराबाद 27 अक्टूबर: डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर मुहम्मद महमूद अली ज़िला कलेक्टरस और तहसीलदारों को हिदायत दी हैके वो मुस्लिम उम्मीदवारों को करीमी लेर(ख़ुशहाल तबक़ा) सर्टीफिकट की इजराई में ताख़ीर ना करें। उन्होंने इस सिलसिले में तमाम ज़िला कलेक्टरस और तहसीलदारों को अहकामात जारी किए।

डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर ने तेलंगाना पब्लिक सर्विस कमीशन के तक़र्रुत में मुस्लिम उम्मीदवारों को बी सी ई सर्टिफिकेट के अलावा नाम करीमी लेर से मुताल्लिक़ सर्टिफिकेट पेश करने की शर्त पर ओहदेदारों के साथ मीटिंग मुनाक़िद किया। अक़लियती बहबूद के आला ओहदेदारों ने इस सिलसिले में महिकमा बी सी वेलफेयर से मालूमात हासिल कीं और बताया कि करीमी लेर से मुताल्लिक़ सर्टिफिकेट का लज़ूम सिर्फ बी सी ई तबक़ा के लिए महदूद नहीं है बल्कि बी सी ज़मुरा के तमाम तबक़ात को ये सर्टिफिकेट पेश करना लाज़िमी क़रार दिया गया है।

इस सिलसिले में सुप्रीमकोर्ट के अहकामात और मुत्तहदा आंध्र प्रदेश में जारी करदा जी ओ की तफ़सीलात से वाक़िफ़ किराया गया। तेलंगाना रियासत की तशकील के बाद तेलंगाना हुकूमत ने इस जी ओ पर अमल आवरी को बरक़रार रखा जिसके तहत सालाना 6 लाख रुपये आमदनी रखने वाले ख़ानदान के तलबा को नान करीमी लेर का सर्टिफिकेट पेश करना लाज़िमी क़रार दिया गया है। डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर ने सेक्रेटरी अक़लियती बहबूद को हिदायत दी के इस सिलसिले में तेलंगाना पब्लिक सर्विस कमीशन के सदर नशीन और सेक्रेटरी से बातचीत करें।

उन्होंने कहा कि सरकारी मुलाज़िमतों में तक़र्रुत के मौके पर मुस्लिम उम्मीदवारों से हरगिज़ नाइंसाफ़ी नहीं होनी चाहीए। हुकूमत तक़र्रुत में 4 फ़ीसद मौजूदा तहफ़्फुज़ात पर बहरसूरत अमल करेगी। मुहम्मद महमूद अली ने ओहदेदारों से कहा कि वो तेलंगाना पब्लिक सर्विस कमीशन की वैब साईट पर सिर्फ मुस्लिम तलबा के लिए करीमी लेर सर्टीफिकेट के लज़ूम का जायज़ा लें और अगर ये सिर्फ़ मुस्लिम तलबा के लिए लाज़िमी किया गया है तो इस में तरमीम की जाये।

डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर ने इस सिलसिले में रोज़नामा सियासत में शाय शूदा रिपोर्ट का हवाला दिया जिसमें अक़लियती उम्मीदवारों से नाइंसाफ़ी की निशानदेही की गई थी। सय्यद उम्र जलील ने बताया कि वो पब्लिक सर्विस कमीशन के ज़िम्मेदारों से बातचीत करेंगे। अगर बी सी के तमाम ज़मरों के लिए ये सर्टीफिकेट लाज़िमी है तो कलेक्टरस और एम आर औज़ को हिदायत दी जाएगी कि वो उम्मीदवारों को मज़कूरा सर्टीफिकेट जल्द जारी करे। ताके तक़र्रुत मैं उनसे कोई नाइंसाफ़ी ना हो।

पब्लिक सर्विस कमीशन ने मुंतख़ब मुस्लिम उम्मीदवारें के लिए लाज़िमी क़रार दिया हैके वो बी सी ई (कासट) सर्टीफिकेट के अलावा नान करीमी लेर सर्टीफिकट पेश करें।

तहसीलदारों के पास हुकूमत की तरफ से इस सर्टीफिकेट का कोई नमूना रवाना नहीं किया गया जिसके बाइस ओहदेदार इस सर्टीफिकेट की इजराई से लाइलमी का इज़हार कर रहे हैं।

डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर ने यक़ीन दिलाया कि ज़रूरत पड़ने पर शराइत में तरमीम करते हुए मुस्लिम उम्मीदवारों के साथ मुकम्मिल इन्साफ़ किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोई भी मुस्लिम उम्मीदवार 4 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात के हक़ से महरूम नहीं रहेगा।

TOPPOPULARRECENT