Saturday , August 19 2017
Home / Khaas Khabar / दंगाइयों की लाश तिरंगे में और सवाल मुसलमानों की देशभक्ति पर: शहज़ाद पूनावाला

दंगाइयों की लाश तिरंगे में और सवाल मुसलमानों की देशभक्ति पर: शहज़ाद पूनावाला

फहद सईद: बिजनौर।सरहद में फैले तनाव और यूपी में बिगड़ते सांम्प्रदायिक सोर्हाद के माहोल में अमन के पैगाम की दरकार होती है। इस अमन के पैगाम को फैलाने का बीड़ा कुछ युवाओं ने हाथ में लिया। कांग्रेस के युवा नेता शहजाद पूनावाला के अगुवाई में बिजनौर के सामाजिक संगठन यूथ कम्यूनिटी बैनर तले किरतपुर में ऐसी ही एक प्रोगाम “शांति का संदेश” का आयोजन किया गया जिसमें जिसमे  महाराष्ट्र कांग्रेंस के सेक्रेट्री शहजाद पूनावाला समेत अमीर ए शरीअत उत्तराखण्ड के अध्यक्ष मौलाना ज़ाहिद रज़ा रिजवी साहब जयराम आश्रम हरद्विार के अध्यक्ष आचार्य ब्रहमस्वरुप ब्रहमचार्य जी महाराज,आॅल इण्डिया क्रिश्चन कौंसिल के जनरल सेक्रेट्री डा0 जाॅन दयाल,, पैगाम ए गुरु नानक उत्तराखण्ड संगठन के प्रदेश अध्यक्ष सरदार मलूक सिंह कालरा, युवा संगठन के प्रदेश अध्यक्ष मुदस्सिर जमां खां व अन्तराष्ट्रीय शायर अफजल मंगलौरी अपने विचार रखे।

महाराष्ट्र कांग्रेस के सेक्रेटरी शहजाद पूनावाला ने कहा हमें ऐसे लोगों को पहचानने और उनको दरकिनार करने की जरुरत है जो समाज में हिंदू और मुस्लिमों में नफरत फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। सियासतदान चाहते हैं कि उत्तर प्रदेश को दंगो की आग में झोंका जाये जिसका फायदा आने यूपी चुनावों में उठाया जा सके। ऐसी राजनीतिक पार्टियों और नेताओं से हमें सचेत रहना चाहिए। साथ ही मुसलमानों को भी किसी बहकावे में नहीं आना चाहिए, जो इनसे ये कहता है हिंदु उनके दुश्मन है असल में वो इब्लीस है।ये अजीब विंडबना है कि एक तरफ मुसलमानों की देशभक्ति पर शक किया जाता है और दुसरी तरफ दंगाईयों की लाशों में तिरंगा लपेटा जाता है।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए आॅल इण्डिया क्रिश्चन कौंसिल के जनरल सेक्रेट्री और मानवअधिकार कार्यकर्ता डा0 जाॅन दयाल ने कहा कि भाजपा और आरएसएस एक सोची समझी साजिश के तहत पश्चिमी यूपी में जाटों और मुसलमानों को आपस में लड़वा रही है। ऐसे में हमें सोचना होगा कि सदियों से जो समाज एक साथ रहा है, एक दूसरे की जरुरत में खड़ा होता वह किसी राजनैतिक पार्टियों के साजिश में क्यों फंस जा रहा है। हम शांति और अमन की मांग करते है लेकिन शांति तो कब्र में भी होती है। मुस्लिम समाज को कब्र जैसी शांति नहीं चाहिए  हमें समझ पड़ेगा अमन तभी आता है जब सोशल जस्टिस कायम हो , समाज में सोशल जस्टिस लाने के लिए हमें मिलकर संघर्ष करना पड़ेगा।

अमीर ए शरीअत उत्तराखण्ड के अध्यक्ष मौलाना ज़ाहिद रज़ा रिजवी साहब कहते हैं जब जब हिंदु और मुस्लिमों सांम्प्रदायिक दंगो की आग में झोंका जाता है तो इस देश की छवि पर दाग लगता है। गोहत्या , लव जिहाद और हाल ही में कैराना और बिजनौर जैसी घटनाएं ये साबित करती है कट्टरपंथ ताकतें सियासी फायदे के लिए ताकतें समाज में टकराव लाने की कोशिश कर रही है। हमें उनकी कोशिश को नाकाम करना होगा।

समाजिक संगठन यूथ के अध्यक्ष और कार्यक्रम के संयोजक मुद्स्सिर जमां खान ने कहा पेदा फसाद से जनवासियों में जो नफरत के बीज बो दिये गये थे उस खाई को पाटने के लिए इस तरह कार्यक्रम की जरुरत पेश आई है।

हाल ही में बिजनौर के एक गांव पेदा में मुस्लिम परिवारों पर हमला किया गया था जिसमें उसी परिवार के तीन लोगों की जान चली गयी थी। लड़की पर छेड़खानी का जब इस परिवार ने आपत्ति जताई थी, उसके बाद उनके घर में गोली चलाई गई जिससे उस परिवार की 3 लोगों की मौत हो गई,पांच लोग की गोली लगने की वजह से घायल हो गए। उसके बाद से ही बिजनौर में अल्पसंख्यक समुदाय में खौफ का माहौल छाया हुआ है।

 

 

TOPPOPULARRECENT