Thursday , October 19 2017
Home / World / दरख़्त पर जमीं बर्फ़ की क़लफ़ीयाँ ख़ूबसूरत मंज़र पेश करने लगीं

दरख़्त पर जमीं बर्फ़ की क़लफ़ीयाँ ख़ूबसूरत मंज़र पेश करने लगीं

अस्कर दो ( जगह का नाम)में ख़ून जमा देनी वाली शदीद सर्दी के बाइस दरख़्त पर भी बर्फ़ की कुलफ़ीयाँ जम गईं लेकिन दरख़्त पर लगी ये क़लफ़ीयाँ इंतिहाई ख़ूबसूरत मंज़र पेश कर रही हैं। अस्कर दो में वाटर स्पलाई की पाइप फटने से रात भर दरख़्त पर पानी ग

अस्कर दो ( जगह का नाम)में ख़ून जमा देनी वाली शदीद सर्दी के बाइस दरख़्त पर भी बर्फ़ की कुलफ़ीयाँ जम गईं लेकिन दरख़्त पर लगी ये क़लफ़ीयाँ इंतिहाई ख़ूबसूरत मंज़र पेश कर रही हैं। अस्कर दो में वाटर स्पलाई की पाइप फटने से रात भर दरख़्त पर पानी गिरता रहा और सुबह तक दरख़्त पर पानी गिरता रहा और सुबह तक दरख़्त की हर शाख़ पर बर्फ़ की कुलफ़ीयाँ जम गईं।

दरख़्त की छोटी शाख़ों से लिपटी बर्फ़ की साफ़ शफ़्फ़ाफ़ क़लमें नीलगों आसमान का अक्स लिए बहुत ख़ूबसूरत मंज़र पेश कररही हैं और सड़क से गुज़रने वाला हर शख़्स इस आईस ट्री के पास रुक कर दिलकश मंज़र का लुत्फ़ उठा रहा है। मंज़र देखने वाले लोग इस बात पर भी हैरत का इज़हार कर रहे हैं कि आख़िर पाइपलाइन का पानी दरख़्त पर 15 फुट तक कैसे पहुंचा क्योंकि सर्दीयों में पाइपों में पानी का प्रैशर भी काफ़ी कम होजाता है।

TOPPOPULARRECENT