Wednesday , September 20 2017
Home / India / दलित पर भगवान को भागने का गंभीर आरोप

दलित पर भगवान को भागने का गंभीर आरोप

झांसी: झांसी से करीब 85 किलोमीटर दूर लहचूरा थानाक्षेत्र में लखन कोरी नमक एक दलित को मंदिर के चबूतरे पर अपना सि‍र रखकर देवता को प्रणाम करने के मामले में ऊँची जाति के लोगों ने लाठी-डंडों से पि‍टाई के बाद उसे गाँव से भगा दिया.
मंदिरों में दलितों के प्रवेश पर रोक तो पहले से ही थी. दलितों को मंदिर के बाहर से दर्शन करने को कहा जाता था लेकिन एक दलित परिवार को मंदिर में प्रणाम करना कथित ऊंची जाति के लोगों को पसंद नहीं आया. उन लोगों ने दलित परिवार को बुरी तरह पीटा और गांव से बाहर निकल जाने को कहा. इतना ही नहीं आरोप है कि कथित ऊंची जाति के लोगों ने लाठी-डंडों से पि‍टाई के बाद गाली देकर उस परिवार से कहा, ‘तूने भगवान को भगा दि‍या. आगे से गांव के आसपास भी दिखे तो गोली मार देंगें’ इस घटना से डरकर उस परिवार ने अपना घर छोड़कर रिश्तेदार के यहां रहने चले गए. वहीं आरोप है कि‍ पुलि‍स इनकी नहीं सुन रही. शनि‍वार को एसएसपी से शि‍कायत करने ये पहुंचे, लेकि‍न उनसे मुलाकात नहीं हुई.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

नेशनल दस्तक के अनुसार, झांसी से करीब 85 किलोमीटर दूर लहचूरा थानाक्षेत्र में गुरुवार को कारसदेव मंदिर में रामेश्वर कुशवाहा भंडारा करवा रहे थे।.वहीं भंडारे में ढांके बज रही थी। मंदिर में उत्सव का माहौल था. यह सब देखने गांव के ही रहने वाले लखन लाल कोरी अपनी पत्नी पुष्पा कोरी के साथ वहां से निकल रहे थे. जब वह मंदिर के पास पहुंचे तो लखन कोरी ने मंदिर में भक्तिमय माहौल को देखकर मंदिर के चबूतरे पर अपना सि‍र रखकर देवता को प्रणाम किया.

इसी बीच वहां बैठे कुशवाहा समाज के 6-7 लोगों ने उसे देख लिया और लाठी डंडों से लखन और पुष्पा की पिटाई कर दी. कुशवाहा समाज के लोगों ने दलित परिवार को जातिसूचक गाली देते हुए कहा, तेरी वजह से हमारे देवता चले गए.’ इतना ही नहीं दबंगों ने धक्के देकर दलित परिवार को गांव से भगा दिया और कहा कि गांव के आसपास भी दिखे तो गोली मार देंगे.

दलित परिवार ने शुक्रवार को इसकी शिकायत लहचूरा थाने में की, लेकिन उनकी वहां कोई सुनवाई नहीं हुई. पूरा परिवार कथित ऊंची जाति की धमकी के बाद से ही अपने गांव से बाहर रिश्तेदारों के यहां रुका है. शनिवार को पूरा दलित परिवार एसएसपी अब्दुल हमीद से शिकायत करने झांसी पहुंचा लेकिन एसएसपी अपने ऑफिस में नहीं मिले. पीड़ित दलित परिवार एसएसपी ऑफिस से निराश होकर लौट गया.

इस मामले में स्थाननीय थाना प्रभारी सोम प्रकाश ने बताया कि‍ मंदिर में छुआछूत को लेकर विवाद नहीं हुआ है, कुशवाहा समाज के लोगों ने कहा था कि पहले हमें पूजा कर लेने दो. बस इसी बात को राजनीतिक मुद्दा बनाया जा रहा है. वहीं कुशवाहा समाज के लोग समझौते के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं, लेकिन ये लोग नहीं आ रहे हैं।.

TOPPOPULARRECENT