Wednesday , October 18 2017
Home / Khaas Khabar / दहश्तगर्दी के ख़िलाफ़ इक़दामात में हिंदूस्तान से तआवुन का इद्दिआ

दहश्तगर्दी के ख़िलाफ़ इक़दामात में हिंदूस्तान से तआवुन का इद्दिआ

अप्रैल दहश्तगर्दी के ख़तरात हिंदूस्तान और पाकिस्तान को मुसावी तौर पर लाहक़ हैं और इस से बाहमी तौर पर निमटने की ज़रूरत है । दोनों ममालिक में इस ताल्लुक़ से काफ़ी पेशरफ़त होती है । पाकिस्तानी वज़ीर-ए-दाख़िला मिस्टर रहमान मलिक ने हिंदूस्

अप्रैल दहश्तगर्दी के ख़तरात हिंदूस्तान और पाकिस्तान को मुसावी तौर पर लाहक़ हैं और इस से बाहमी तौर पर निमटने की ज़रूरत है । दोनों ममालिक में इस ताल्लुक़ से काफ़ी पेशरफ़त होती है । पाकिस्तानी वज़ीर-ए-दाख़िला मिस्टर रहमान मलिक ने हिंदूस्तानी मीडीया के नुमाइंदों से बातचीत करते हुए कहा कि वीज़ा क़वाइद में नरमी लाई जा रही है और इस ताल्लुक़ से आइन्दा माह मुआहिदा पर दस्तख़त मुतवक़्क़े हैं ।

उन्होंने बताया कि 65 साल से ज़ाइद उम्र के अफ्राद , शादी ब्याह में शिरकत और तिजारती अग़राज़ के लिए वीज़ा क़वाइद में नरमी लाई जाएगी । मिस्टर रहमान मलिक ने वाघा सरहद को चौबीस घंटे खुला रखने की भी तजवीज़ पेश की । उन्होंने तलबा को सहूलत देने की तजवीज़ से भी इत्तेफ़ाक़ किया । जहां तक दहश्तगर्दी का ताल्लुक़ है उन्होंने ये तस्लीम किया है कि पाकिस्तान ख़ुद इस का शिकार रहा है ।

उन्होंने तालिबान की हिक्मत-ए-अमली को दहश्तगर्दी टेक्नोलोजी से ताबीर किया जो इंसानी बम इस्तेमाल कर रहे हैं । ताहम उन्होंने कहा कि सूरत-ए-हाल इस वक़्त क़ाबू में है । हिंदूस्तान के साथ बाहमी तआवुन के हवाले से उन्हों ने बताया कि आई एस आई और ” रा ” को मौरिद इल्ज़ाम क़रार दिया जाता था लेकिन ये रुजहान अब ख़तम हो रहा है ।

इन्होंने कहा कि मुंबई बम धमाकों की तहक़ीक़ात हनूज़ जारी हैं और पाकिस्तान ने इस ज़िमन में मुम्किना हद तक तआवुन किया है । दोनों ममालिक क़ानूनी तौर पर अपना काम कर रहे हैं । अगर हिंदूस्तान में दहश्तगर्दों की हवालगी का मुतालिबा किया जा रहा है तो पाकिस्तान में भी समझौता एक्सप्रेस के मुतास्सिरीन कर्नल पुरोहित और दीगर मुल्ज़िमीन को हवाले करने का मुतालिबा कर रहे हैं ।

इन्होंने कहा कि ऐसी पेचीदगीयों के बावजूद दोनों ममालिक में पहले के मुक़ाबले ज़्यादा मुफ़ाहमत पाई जाती है । इन्होंने डाक्टर खलील चिशती की रिहाई पर हिंदूस्तान से इज़हार-ए-तशक्कुर क्या । मिस्टर मलिक ने दावा किया कि मुंबई धमाकों की तहक़ीक़ात के मुआमला में पाकिस्तान ने किसी भी मालूमात को मख़फ़ी नहीं रखा । इन्होंने यक़ीन दहानी कराई कि दहश्तगर्दों को हिंदूस्तान के ख़िलाफ़ पाकिस्तानी सरज़मीन इस्तेमाल करने की इजाज़त नहीं दी जाएगी ।

हाफ़िज़ सईद के बारे में मिस्टर रहमान मलिक ने दावा किया कि पाकिस्तान में ऐसे कोई ठोस सबूत नहीं मिले जिस की वजह से अदालत ने उन्हें मंसूबा इल्ज़ामात से बरी किया है । इन्होंने बताया कि जब हाइकोर्ट में हाफ़िज़ सईद की दरख़ास्त मुस्तर्द की गई तब हकूमत-ए-पाकिस्तान अपने मसारिफ़ पर सुप्रीम कोर्ट से रुजू हुई लेकिन यहां भी नाकामी हुई ।

हुकूमत अमेरीका ने हाफ़िज़ सईद के सर पर जो इनाम रखा है इस से हक़ीक़त का कोई ताल्लुक़ नहीं । उन्होंने डेविड हेडली की नक़ल-ओ-हरकत के बारे में मुंबई हमलहसे पहले ही नज़र रखने और हकूमत-ए-हिन्द को आगाह करने का दावा किया । उन्होंने बताया कि हेडली ने हिंदूस्तान में दो अफ्राद से रवाबित उस्तिवार किए जिन्होंने निशानों की वीडियोग्राफी में मदद की लेकिन इन दोनों के ख़िलाफ़ अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई ।

हेडली ने ना सिर्फ पाकिस्तान बल्कि यूरोप का भी दौरा किया था ।हिंदूस्तान में इस का तिजारती मर्कज़ क़ायम है । चुनांचे ये जानना ज़रूरी है कि डेविड हेडली के पसेपर्दा ताक़त कौन हैं । इस मौक़ा पर पाकिस्तानी सफ़ीर मुतय्यना हिंद मिस्टर शाहिद मलिक और दीगर मौजूद थे ।

TOPPOPULARRECENT