Thursday , October 19 2017
Home / Khaas Khabar / दहेज के मामलों में शौहर की जिम्मेदारी ज्यादा:SC

दहेज के मामलों में शौहर की जिम्मेदारी ज्यादा:SC

सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में कहा है कि दहेज कत्ल से जुड़े केस में शौहर का मामला दिगर रिश्तेदारों से अलग हो जाता है क्योंकि बीवी के तईन उसकी जिम्मेदारी दिगर के मुकाबले में ज़्यादा होती है| जस्टिस टीएस ठाकुर की कियादत वाली तीन र

सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में कहा है कि दहेज कत्ल से जुड़े केस में शौहर का मामला दिगर रिश्तेदारों से अलग हो जाता है क्योंकि बीवी के तईन उसकी जिम्मेदारी दिगर के मुकाबले में ज़्यादा होती है| जस्टिस टीएस ठाकुर की कियादत वाली तीन रूकनी बेंच ने दहेज कत्ल के मुल्ज़िम की सात साल की सजा बरकरार रखते हुए यह तब्सिरा किया |

बेंच ने मामले की साथी मुल्ज़िमा मां और भाई की तरह मुल्ज़िम को भी मसावत की बुनियाद पर रिहा करने की अपील खारिज कर दी| शौहर के मामले को दिगर रिश्तेदारों से अलग बताते हुए आली अदालत ने कहा, शौहर न सिर्फ अपनी बीवी की हिफाज़त के लिए जिम्मेदार होता है, बल्कि वह दिगर रिश्तेदारों के मुकाबले में जज़्बाती तौर से उसके ज्यादा करीब होता है| दहेज को लेकर शौहर व उसके घर वालों की नाराज़गी के सबब अगर बीवी खुद को आग लगाकर जान दे देती है तो पति के खिलाफ हरासानी (harassment) का मामला बनता है|

हरियाणा के नरेश कुमार ने सजा के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी| नरेश की बीवी ने शादी के एक साल के अंदर 1 मई, 2001 को दहेज के लिए टार्चर किए जाने के बाद मुबय्यना तौर पर आग लगाकर जान दे दी थी|

TOPPOPULARRECENT