Thursday , August 17 2017
Home / India / दाऊद को पाकिस्तान में मारने का बना था मंसूबा लेकिन पुलिस ने बिगाडा काम

दाऊद को पाकिस्तान में मारने का बना था मंसूबा लेकिन पुलिस ने बिगाडा काम

नई दिल्ली: मुंबई सीरियल बम धमाकों के अहम मुल्ज़िम अंडरवल्र्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को पाकिस्तान में ही ठिकाने लगाने की तैयारी थी , लेकिन मुंबई पुलिस के कुछ अफसरों की वजह से पूरा ऑपरेशन चौपट हो गया। भाजपा एमपी व साबिक मरकज़ी होम सेक्रेटरी आरके सिंह ने यह खुलासा किया है।

सिंह ने दावा किया कि अटल जी की हुकूमत के वक्त इस ऑपरेशन के लिए छोटा राजन गैंग के लोगों को ट्रेनिंग भी दी गई थी। आरके सिंह ने इतवार के रोज़ एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में अंडरवल्र्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को पाकिस्तान में ही मारने की खुफिया ऑपरेशन की वकालत की है।

उन्होंने कहा कि दाऊद से निपटने के लिए खुफिया ऑपरेशन ही एक चारा है। दाऊद 1993 में मुंबई में हुए सीरियल ब्लास्ट की प्लानिंग के बाद पाकिस्तान में बैठा है। सिंह ने बताया कि जब अटल बिहारी वाजपेयी पीएम थे, तब हुकूमत ए हिंद ने छोटा राजन गिरोह के कुछ लोगों को इस मिशन से जोडा और उन्हें खुफिया मुकामात पर ट्रेनिंग देनी शुरू की। हालांकि, दाऊद से जुडे मुंबई पुलिस के कुछ अफसर ट्रेनिंग कैंप पर इन लोगों को गिरफ्तार करने पहुंच गए।

सिंह ने कहा कि, मुंबई पुलिस यह कहती पाई गई कि उसके पास ट्रेंड किए जा रहे लोगों के खिलाफ वारंट है। हालांकि, मैं इस न्यूज की तस्दीक नहीं कर सकता। मैंने यह सब सुना है और मेरे पास पुख्ता सबूत नहीं हैं।

पाकिस्तान की तरफ से दाऊद के वहां न होने की बात कहे जाने को शर्मनाक करार देते हुए सिंह ने कहा कि दाऊद को लाने के लिए दूसरे तरीके ही अपनाने होंगे। यह पूछे जाने पर कि हिंदुस्तान को ऐसा करने से कौन रोक रहा है! इस पर उन्होंने कहा कि, सियासत ताकत खाहिंशऔर फैसला।

पीएम को अपनी एजेंसियों को हुक्म देना है। सिंह ने यह भी कहा कि दूसरे ग्रुप्स को ट्रेंड करके दाऊद को ठिकाने लगाने के ऑपरेशन को अंजाम दिया जा सकता है। दहश्तगर्दाना हमलों से निपटने के लिए हिंदुस्तान को इस्राइल जैसी पालिसी अपनानी होगी, जो कि अपने दुश्मन से खुद लड रहा है, क्योंकि वह अपनी लडाई के लिए अमेरिका पर मुंहसिर नहीं रह सकता।

सिंह ने कहा कि, पीएम , वज़ीर ए दाखिला और खुफिया एजेंसियों को दाऊद से निपटने के लिए एक साथ कुछ करना होगा, क्योंकि बाद में कुछ भी खुद से नहीं होगा। उन्होंने कहा, पीएम को फैसला करना होगा, ठीक उसी तरह जब उन्होंने म्यांमार में जाकर हमला करने का हुक्म दिया था।

TOPPOPULARRECENT