Monday , August 21 2017
Home / Khaas Khabar / दादरी में बैन के बावजूद फिर हुई महापंचायत, बढ़ा तनाव, मामला दर्ज करने की मांग

दादरी में बैन के बावजूद फिर हुई महापंचायत, बढ़ा तनाव, मामला दर्ज करने की मांग

दादरी : गोमांस खाने के शक में भीड़ मोहम्मद अखलाक को पीट-पीटकर मार डाले जाने के नौ महीने बाद आज फिर दादरी वाकेय उसके घर के पास रहने वाले सैकड़ों गांववालों ने एक महापंचायत आयोजित की। इसमें अखलाक के परिजनों के खिलाफ पुलिस में गोहत्या का मामला दर्ज किए जाने की मांग की गई।

उधर, इस महापंचायत के एलान को नाकाम करने के लिए पुलिस ने कहा था कि दादरी में हिंसा की किसी मुमकीना वाकीया से निपटने के लिए दफा 144 लागू कर दी गई है, जिसके तहत लोगों को इकट्ठा होने की इजाज़त नहीं होती।

इस बीच, भारतीय जनता पार्टी के मुकामी नेता संजय राणा ने कहा है कि महापंचायत का होना बेहद ज़रूरी है। गौरतलब है कि पुलिस के मुताबिक अखलाक की हत्या के तार राणा के पुत्र विशाल से जुड़े हुए हैं। देश की राजधानी दिल्ली से सिर्फ 50 किलोमीटर की दूरी पर बसे दादरी में पुलिस और प्रशासन की नींद जाट आंदोलन ने भी उड़ा रखी है, जो मूलतः हरियाणा में बसी जाति है, और वे सामाजिक रूप से पिछड़ी जाति के तौर पर उन्हें रिजर्वेशन दिए जाने की मांग कर रहे हैं। हरियाणा के सोनीपत, रोहतक में भी दफा 144 लागू है.

पिछले साल 28 सितंबर को लोगों की भीड़ 56-वर्षीय मोहम्मद अखलाक के घर में घुस गई थी, और उसे पीट-पीटकर मार डालने के बाद उसके शव को भी घसीटकर सड़क पर ले आई थी। पिछले सप्ताह आई एक लैब रिपोर्ट में कहा गया कि घटनास्थल से लिया गया मांस का नमूना ‘गाय या उसके वंश’ का ही है। यह रिपोर्ट पहले आए एक अन्य दस्तावेज से अलग बात कहती है, जिसमें बताया गया था कि मांस बकरे का था।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पुलिस की तरफ से कोर्ट में दाखिल की गई इस नई रिपोर्ट पर सवालिया निशान लगाया है, और ज़ोर देकर कहा है कि एक सख्श को पीट-पाटकर मार डालने वाली भीड़ को सज़ा दिया जाना महत्वपूर्ण है, उसका मकसद नहीं।

लगभग 400 हिन्दू और 25 मुस्लिम परिवारों के बिसहड़ा गांव में रहने वालों का कहना है कि नई रिपोर्ट से साबित होता है कि अखलाक के परिवार के खिलाफ गोहत्या के मामले में जांच की जानी चाहिए, क्योंकि वह रियासत में गैरकानूनी है, हालांकि गोमांस रखना गैरकानूनी नहीं है।

पिछले साल भी एक मंदिर से पुजारी की तरफ से भी यह एलान की गई थी कि अखलाक ने गोहत्या की है, और उसकी बीवी रात के खाने के तौर में गोमांस पका रही है। इसी एलान के बाद सहिष्णुता का रास्ते पर चलते आ रहे गांव में हंगामा मच गया था।

TOPPOPULARRECENT