Wednesday , September 20 2017
Home / Khaas Khabar / दिलसुखनगर विस्फोट: दोषियों ने अदालत से कहा हमें फांसी दे दीजिये

दिलसुखनगर विस्फोट: दोषियों ने अदालत से कहा हमें फांसी दे दीजिये

सोमवार को एनआईए के अभियोजक लालकृष्ण सुरेंद्र ने एनआईए की विशेष अदालत से कहा कि पांचों इंडियन मुजाहिदीन के सदस्य, जिन्हें 2013 दिलसुखनगर विस्फोट मामले के लिए दोषी ठहराया गया है, उन्हें उच्चतम सजा दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि संविधान ने लोगों को जीवन के अधिकार की गारंटी दी है लेकिन दोषियों ने दो इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइसेज से विस्फोट कर 18 लोगों की जान ली थी।

13 दिसंबर को, अदालत ने आईएम के सह-संस्थापक मोहम्मद अहमद सिदिबाबा उर्फ ​​यासीन भटकल, पाकिस्तानी नागरिक जिया-उर-रहमान उर्फ ​​वकास, असदुल्ला अख्तर उर्फ ​​हड्डी, तहसीन अख्तर उर्फ ​​मोनू और एजाज शेख सहित पांच सदस्यों को, जो वर्तमान में न्यायिक हिरासत में चेर्लापल्ली केंद्रीय कारागार में बंद हैं उन्हें दोषी करार दिया था।

तेलंगाना पुलिस ने सजा सुनाये जाने की वजह से जेल के आसपास के क्षेत्र में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए था।

चूंकि दोषियों के वकील अदालत में उपस्थित नहीं थे, इसलिए न्यायाधीश ने उनसे पूछा था कि क्या वे कुछ कहना चाहते हैं। “जब न्यायाधीश ने अभियोजक के तर्क पर उनकी प्रतिक्रिया मांगी तब दोषियों ने कहा कि ‘हमें फांसी दे दीजिये’,” एक पुलिस अधिकारी, जो अदालत में उपस्थित थे उन्होंने नाम न छापने की शर्त पर बताया।

मौत की सजा के साथ-साथ, न्यायाधीश ने कानून की विभिन्न धाराओं के तहत विविध जुर्माना भी लगाया। “दोषियों ने न्यायाधीश से पूछा कि क्या वे प्रतिबंधित नोटों में जुर्माना राशि का भुगतान कर सकते हैं या नए नोटों का इस्तेमाल करना होगा,” पुलिस अधिकारी ने कहा।

श्री सुरेंद्र ने जेल के बाहर मीडियाकर्मियों से बात करते हुए कहा कि अदालत अभियोजन पक्ष द्वारा प्रस्तुत गवाहों की विश्वसनीयता के प्रति आश्वस्त थी। “दोषियों आगे अपील के लिए जाने के लिए स्वतंत्र हैं लेकिन अभियोजन पक्ष के रूप में हम अपने काम अच्छी तरह से किया है,” उन्होंने कहा।

TOPPOPULARRECENT